रचना हत्याकांड होगा सीबीसीईआईडी के सुपुर्द

Pauri Updated Tue, 02 Oct 2012 12:00 PM IST
कोटद्वार। रचना हत्याकांड को सीबीसीआईडी के सुपुर्द करने की मांग पर जनदबाव कामयाब होता दिख रहा है। डीआईजी गढ़वाल ने पुलिस ने इस संबंध में रिपोर्ट तलब की है। इसके साथ ही इस बात के पुख्ता संकेत मिल रहे हैं कि यह मामला सीबीसीआईडी को सौंपा जा रहा है। इस मामले में पहले राजस्व और बाद में सिविल पुलिस फेल साबित हुई है। डेढ़ महीने बाद भी रचना की मौत की गुत्थी सुलझ नहीं पाई है।
रचना हत्याकांड की जांच में अभी तक कोरे हाथ रही पुलिस से लोगों ने जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की मांग की थी। कई दिनों से यह मांग जोर पकड़ने लगी है। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीआईजी गढ़वाल जीएन गोस्वामी ने पुलिस से इसकी रिपोर्ट तैयार कर पौड़ी भेजने के निर्देश दिए हैं। पुलिस ने भी रिपोर्ट लगभग तैयार कर ली है। यहां से रिपोर्ट पौड़ी एसपी को भेजी जाएगी। उसके बाद वहां से उसको आला अधिकारियों को भेजा जाएगा। उसके बाद ही मामला सीबीसीआईडी के पास पहुंचेगा। सीओ अरुणा भारती का कहना है कि लोगों की मांग को देखते हुए इस मामले की रिपोर्ट एसपी पौड़ी को भेजी जा रही है। वहां से जो भी निर्देश होंगे उस पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।


क्रमिक अनशन को जबरदस्त जन समर्थन
कोटद्वार। रचना हत्याकांड को लेकर जन अधिकार संयुक्त संघर्ष समिति की ओर से मामले की सीबीसीआईडी की जांच की मांग को लेकर क्रमिक अनशन लगातार जारी है। तहसील परिसर में चल रहे इस क्रमिक अनशन को लगातार लोगों का समर्थन मिल रहा है। इसी क्रम में क्रमिक अनशन के नवें दिन प्रधान संघ दुगड्डा के अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह नेगी, पूर्व क्षेत्र प्रमुख प्रकाश तोमर, आमसौड़ ग्राम प्रधान दिनेश जुयाल, चरेख ग्राम प्रधान नत्थी सिंह, उतिछा ग्राम प्रधान खिलुणी देवी, ग्राम प्रधान काटल बलवंत सिंह, जिला पंचायत सदस्य कुसुम असवाल, क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष मानपुर सुरेंद्र सिंह रावत, क्षेत्र पंचायत सदस्य लालपानी देवी प्रसाद, उप प्रधान ग्राम स्यालिंगा जितेंद्र सिंह नेगी, पूर्व प्रधान कुंभीचौड़ नरेंद्र सिंह नेगी, ग्राम प्रधान सिंबलचौड़ पारेश्वरी देवी, ग्राम प्रधान सुखदेव आदि बैठे थे। सभी ने मामले की सीबीसीआईडीसे जांच कराने की मांग की। बिजनौर जनपद से आए अधिवक्ता राहुल शर्मा ने कहा कि साक्ष्यों को छुपाने के आरोप में राजस्व पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। इस अवसर पर यूकेडी के जिला प्रवक्ता एमसी केष्टवाल, सामाजिक कार्यकर्ता कृष्ण कुमार, सुधीर चौधरी आदि बड़ी संख्या में लोग आ रहे थे। संचालन पूर्व कनिष्ठ प्रमुख भारत सिंह नेगी ने किया।

क्या कहते हैं कानूून के जानकार
कोटद्वार। रचना हत्याकांड से आखिर क्यों नहीं परदा उठ पा रहा है, यह किसी के समझ में नहीं आ रहा है। रचना की हत्या हुई, यह बात तय है। नजदीकी किसी व्यक्ति ने की, यह भी लगभग तय है, लेकिन वह कौन है और किन परिस्थितियों में उसने इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया, कौन उसके साथ था, इस बारे अभी तक पुलिस भी अनजान सी बनी हुई है। कानून के जानकार क्या कहते हैं कि किस तरह की कमी रही है।

- घटना की प्राइमरी जांच नहीं की गई। शव का फोटो या वीडियो ग्राफ नहीं बनाया गया। परिस्थितिजन्य सुबूत नहीं जुटाए गए। इसके लिए राजस्व पुलिस की ओर से लापरवाही हुई है। पुलिस भी इस मामले से जुड़े लोगों तक नहीं पहुंच पाई है। नाम उजागर किए बिना स्थानीय लोगों से बयान लिए जा सकते थे। उच्चस्तरीय जांच होने के बाद इसमें कुछ हो सकता है।
- अजय कुमार पंत, एडवोकेट व अध्यक्ष बार एसोसिएशन

-शुरूआत में पर्याप्त सुबूत एकत्रित नहीं हुए। परिस्थिति के अनुसार साक्ष्य जुटाए जाने चाहिए थे। स्थानीय लोगों को इसमें जांच करने वालों को सहयोग करना चाहिए। अधिकांश परिस्थितियां स्थानीय लोगों को पता होती हैं। -जितेंद्र चौहान, एडवोकेट

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

बवाना कांड पर सियासत शुरू, भाजपा मेयर बोलीं- सीएम केजरीवाल को मांगनी चाहिए माफी

दिल्ली के औद्योगिक इलाके बवाना में शनिवार देर शाम अवैध पटाखा गोदाम में आग लगने से 17 लोगों की मौत के बाद अब इस पर सियासत शुरू हो गई है।

21 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper