रुला रही रोड, कहीं विरोध, कहीं लेटलतीफी

Pauri Updated Sat, 22 Sep 2012 12:00 PM IST
कोटद्वार। बालासौड़-कोटद्वार की मुख्य सड़क पर चल रहे काम को ग्रामीणों ने शुक्रवार को रुकवा दिया। ग्रामीणों ने निर्माण कार्य की गुणवत्ता पर सवाल उठाए हैं। ग्रामीण अब कांट्रेक्ट बांड दिखाए जाने पर अड़ गए हैं। उनका कहना है कि जब तक ऐसा नहीं किया जाता, तब तक काम नहीं होने दिया जाएगा। इधर, विभाग का कहना है कि गुणवत्ता का रोड बनाते हुए पूरा ध्यान रखा जा रहा है।
इस सड़क के करीब 1600 मीटर के हिस्से में निर्माण कार्य हो रहा है। इस सड़क को बनाने के लिए ग्रामीणों की काफी लंबे समय से मांग रही है। सड़क इतनी बदहाल है कि वाहन तो क्या पैदल भी चलना मुश्किल हो रहा है। लोनिवि ने इस सड़क के पुनर्निर्माण कार्य की शुरुआत कर दी है। दो करोड़ रुपये इस रोड पर खर्च होने हैं। शुक्रवार दोपहर को कुछ ग्रामीण सड़क निर्माण के स्थान पर पहुंचे। ग्रामीणों ने काम को जबरन रुकवा दिया। उनका कहना था कि यह सड़क पूर्व में पांच मीटर चौड़ी थी, जबकि अब इसको साढे तीन मीटर तक ही बनाया जा रहा है। आरसीसी से बन रही सड़क की मोटाई को लेकर भी ग्रामीणों ने सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि इसकी मोटाई भी कम की जा रही है। सड़क की सफाई किए बिना ही सीमेंट डाल दी जा रही है, जबकि पहले सड़क की पूरी तरह से सफाई की जानी चाहिए थी। उन्होंने कार्य के दौरान तकनीकी कर्मचारियों के नियमित तौर पर मौजूद रहने की भी मांग की। स्थानीय लोगों का कहना है कि जब तक उनको कांट्रेक्ट बांड नहीं दिखा दिए जाते तब तक कार्य नहीं चलने दिया जाएगा। मौके पर मौजूद लोनिवि के एई वाईएन राजवंशी का कहना है कि जितना स्टीमेट में है, सड़क उतनी ही बन रही है। मानकों का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। लोग कांट्रेक्ट बांड मांग रहे हैं, तो उनको वह दिखा दिया जाएगा। कार्य रुकवाने वालों में बीडी ध्यानी, राजाराम अंथ्वाल, विजय ध्यानी, रवींद्र जजेड़ी, अजय मिश्रा, सुदीप भारद्वाज, कोेमल सजवाण सहित अन्य ग्रामीण शामिल थे।



भाबर की सड़क जगह-जगह पर है टूटी
अमर उजाला ब्यूरो
कोटद्वार। भाबर क्षेत्र से हरिद्वार जाने वाली सड़क जगह-जगह टूट चुकी है। खासकर जशोधरपुर के पास तो इसकी स्थिति काफी दयनीय बनी है। सड़क में जगह-जगह गड्ढ़े बने हुए हैं। पहले तो यह मार्ग देवी रोड की तरफ ही बदहाल था, लेकिन अब भाबर क्षेत्र में भी स्थिति काफी खराब हो गई है। यह मार्ग हरिद्वार जाने के लिए जीएमओयू की बसों का मुख्य मार्ग है। इसके अलावा यह भाबर जाने के लिए एक मात्र सड़क भी है। मगर इसकी ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। सबसे अधिक दिक्कत यहां पर बारिश होने पर होती है। गड्ढ़ों में पानी भर जाता है। जो कई बार दुपहिया वाहनों के गिरने का भी कारण बन सकता है। पूरे भाबर के आखिरी तक इस सड़क की स्थिति दयनीय बनी हुई है।

क्या कहते हैं स्थानीय लोग
-मार्ग की मरम्मत होनी अति आवश्यक हो गई है। सड़क के गड्ढ़ों पर लोग हिचकोले खाते हुए चलते हैं। मरम्मत नहीं किए जाने पर यह और भी बदतत होती चली जाएगी। -सुशील कुकरेती
-इस बरसात में इस सड़क की हालत काफी बिगड़ गई है। देवी रोड से लेकर भाबर के अंतिम छोर तक यह हर दो कदम पर खराब हो रखी है। विभाग को जल्दी इसको सही करना चाहिए। -ललित कंडारी


अन्य मार्ग भी हो रखे हैं बदहाल
कोटद्वार। पुराने सिद्धबली मार्ग की स्थिति भी बदहाल है। जीजीआईसी के पीछे से ढलान वाली जगह पर सड़क बीचों-बीच से यह सड़क उखड़ गई है। इसके निचले हिस्से पर सुरक्षा दीवार भी टूटी हुई है। यहां पर भी रात्रि के समय खतरा बना रहता है। इसके अलावा झूला बस्ती के पास पुल से पहले का मार्ग भी बदहाल हो रखा है।

कोट---

-सड़कों की वार्षिक मरम्मत के तहत इस सड़क को बनाया जाएगा।बरसात के चलते इस पर काम नहीं हो पा रहा है। बरसात के बाद अक्तूबर तक इस पर काम शुरू कराने की योजना है। अन्य सड़कों पर भी बरसात के बाद काम शुरू करा दिया जाएगा।
-राजेश चंद्रा अधिशासी अभियंता, लोनिवि दुगड्डा

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper