विज्ञापन
विज्ञापन

डाक्टरों का टोटा, मरीजों पर सोटा

Pauri Updated Sun, 16 Sep 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
कोटद्वार। राजकीय संयुक्त अस्पताल में इमरजेंसी सेवा का भार फार्मेसिस्ट पर बढ़ रहा है। लगातार बढ़ रही ओपीडी के चलते इमरजेंसी सेवा भी प्रभावित हो रही है। इमरजेंसी में आने वाले मरीजों की देख-रेख में डाक्टरों की कमी आड़े आ रही है, जिससे मरीजों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन
अस्पताल में डाक्टरों के 22 पद सृजित हैं, लेकिन अभी यहां मात्र 16 ही डाक्टरों की तैनाती है। इससे ओपीडी सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। हालांकि सबसे ज्यादा नुकसान इमरजेंसी सेवा के संबंध में उठाना पड़ रहा है। डाक्टरों की कमी के चलते इमरजेंसी में मरीजों को क भी-कभी आधा घंटे तक इंतजार करना पड़ता है। अस्पताल में इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर (ईएमओ) के दो पद सृजित हैं, लेकिन ये दोनों ही पद रिक्त पड़े हुए हैं।


डाक्टरों की डबल ड्यूटी
-डाक्टरों की कमी के चलते अस्पताल में एक ही डाक्टर को दो-दो ड्यूटी देनी पड़ रही हैं। आलम यह है कि ओपीडी में तैनात डाक्टर को इमरजेंसी में भी ड्यूटी देनी होती है। इसके चलते कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार इमरजेंसी में आए मरीज को देखने के चक्कर में ओपीडी के मरीज छूट जाते हैं।


नाइट ड्यूटी में अक्सर लेट
-नाइट ड्यूटी में तैनात डाक्टर इमरजेंसी में समय पर नहीं आते हैं। इसके चलते कई बार लोगों को बड़ा नुकसान हो चुका है। कुछ समय पहले आग से झुलसी दो महिलाओं के मामले में डाक्टर के नहीं आने से मौत हो गई थी। ऐसे मामले कई बार सामने आ चुके हैं। इस स्थिति में गंभीर से गंभीर रोगी का उपचार फार्मेसिस्ट ही करते हैं।


-वर्क लोड बहुत अधिक हो गया है। मरीजों की संख्या लगातर बढ़ रही है, लेकि न डाक्टरों की कमी दूर नहीं हो पा रही है। अस्पताल में ईएमओ के दो पद हैं, लेकिन दोनों ही खाली पड़े हुए हैं। इस समस्या को दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
डा. आईएस सामंत, सीएमएस, राजकीय अस्पताल कोटद्वार

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Pauri

गांव के पगडंडी से संसद तक का सफर-compat

गांव के पगडंडी से संसद तक का सफर-compat

23 मई 2019

विज्ञापन

भाजपा की जीत पर ओवैसी का विवादित बयान, ‘इस बार EVM नहीं, हिंदुओं के दिमाग में हुई हेराफेरी’

लोकसभा चुनाव नतीजों के बीच अब आरोपों का भी दौर शुरू हो गया है। एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने एक विवादित बयान देते हुए कहा कि इस बार ईवीएम नहीं, हिंदुओं के दिमाग के साथ हेरफेर हुई है।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree