363 गांवों में बिजली-पानी की आपूर्ति ठप

Pauri Updated Tue, 28 Aug 2012 12:00 PM IST
देवप्रयाग। नगर सहित पौड़ीखाल, हिंडोलाखाल, चाका और सबदरखाल क्षेत्र के 363 गांवों में 26 घंटे से विद्युत आपूर्ति ठप होने से लोगों को भारी दिक्कतों से होकर गुजरना पड़ रहा है। बिजली न होने पर क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति भी ठप पड़ी है। ऐसे में रात में अंधेरा पसरा होने से जंगली-जानवरों का बस्तियों की ओर आने का खतरा भी बना हुआ है।
बगवान के आस-पास 33 केवी विद्युत लाइन में फॉल्ट आने से रविवार दोपहर बारह बजे के बाद से देवप्रयाग क्षेत्र में विद्युत आपूर्ति बाधित है। बिजली न होने से क्षेत्र में भरपूर एवं कोट पंपिंग पेयजल योजनाओं से पानी नहीं आ रहा है। इधर पाली, रामपुर व श्यामपुर में रविवार रात्रि से पहले ही विद्युत आपूर्ति ठप होने के कारण लोगों को 36 घंटे से बिना बिजली के रहना पड़ रहा है। मोबाइल चार्ज न होने से एक दूसरे से संपर्क भी नहीं पा रहा है। देवप्रयाग नगर में व्यवसायियों का व्यवसाय प्रभावित हो रहा है। विद्युत विभाग के अवर अभियंता संजीव कुमार का कहना है कि बरसात और झाड़ियों के कारण विद्युत लाइन में फॉल्ट ढूंढने में दिक्कतें आ रही हैं। टीम फॉल्ट ढूंढने के कार्य में जुटी हुई है।

एक माह से छह गांवों की बिजली गायब
देवाल। ऊर्जा निगम की लापरवाही के चलते ब्लाक के आधा दर्जन गांवों की बिजली सप्लाई ठप है। बिजली नहीं होने से परेशान ग्रामीणों ने अब आंदोलन करने की चेतावनी दी है। पिंडर नदी पर बोरागाड के समीप दो पोल बह जाने से ओडर, लिंगड़ी, बूस्तरा, कमलखेत, चौड़, बोरागाड की विद्युत आपूर्ति ठप हो गयी थी। हैरत की बात तो यह है कि एक माह बीत जाने के बावजूद निगम विद्युत आपूर्ति बहाल करने की कार्रवाई शुरू नहीं कर पाया है। निगम के एसडीओ सीबी लिंगवाल ने कहा कि मंगलवार से कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

पिंडरघाटी के कई गांवों में पेयजल संकट
नारायणबगड़/थराली। लगातार बारिश के बावजूद पिंडरघाटी में जलसंस्थान की पेयजल योजनाएं लोगों के हलक तर नहीं कर पा रही हैं। लोग हैंडपंपों और गाड-गदेरों का दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। विभाग समस्या के निस्तारण के लिए ठोस प्रयास नहीं कर पा रहा है।
पिंडरघाटी के नारायणबगड़ क्षेत्र में बीते दो माह से पेयजल संकट बना हुआ है। कस्बे में ब्लाक मुख्यालय सहित मुख्य बाजार और पंती में लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं। 17 अगस्त को हुई मूसलाधार बारिश एवं आपदा में क्षेत्र के नलगांव, कफोली, लेगुना गांवों की पेयजल लाइनें ध्वस्त हो गई थीं जिनकी मरम्मत नहीं होने से पेयजल संकट बना है।
दूसरी तरफ, तहसील मुख्यालय थराली सहित मुख्य बाजार, अपर बाजार, नासीर बाजार के साथ समीपवर्ती माल-बज्वाड़ एवं बैनोली गांव में भी लोग पेयजल संकट से जूझ रहे हैं। व्यापार संघ अध्यक्ष प्रेम बुटोला, रमेश जोशी, आरसी थपलियाल ने बताया कि विभागीय अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को सूचित करने के बावजूद पेयजल समस्या का निस्तारण नहीं हो रहा है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव का तंज, ...ताकि पकौड़ा तलने को नौकरी के बराबर मानें लोग

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा देश की सोच को अवैज्ञानिक बताना चाहती है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper