बरसात का पानी दे रहा कैसी कैसी तकलीफ

Pauri Updated Sat, 04 Aug 2012 12:00 PM IST
बरसात का पानी अपने साथ अलग-अलग तरह की दिक्कतें लेकर आ रहा है। शहर के सबसे अहम देवी रोड में जल भराव से पब्लिक का चलना फिरना दूभर हो रहा है। सिंचाई विभाग ने नहर को अंडर ग्राउंड कर दिया है। इस काम के लिए सड़क पर खोदी गई मिट्टी समतल नहीं की गई है। बरसात होने के बाद ये जगह गड्ढ़ों में तब्दील हो गई है। इनमें पानी भर गया है। ये स्थिति लोगों के लिए दुखदायी साबित हो रही है। आदर्श स्थिति तो ये होती, कि बरसात शुरू होने से पहले एहतियाती उपाय कर लिए जाते। नहीं तो, अब भी कोशिश कर ली जाती, मगर जिम्मेदार महकमे आंखों में पट्टी बांधे हुए है। बरसात के पानी से एक दूसरी तरह की तकलीफ भी सामने आ रही है। एक बैंक में बिल्डिंग इस कदर टपक रही है कि स्टाफ से लेकर उपभोक्ताओं तक के लिए छाता जरूरी हो गया है। छाता नहीं, तो भीगते हुए कीजिए बैंक के काम।

देवी रोड पर सावधानी हटी, दुर्घटना घटी
कोटद्वार। देवी रोड का इस बरसात में ये हाल है कि सावधानी हटी, दुर्घटना घटी। यहां पर चलना खतरे से खाली नहीं रह गया है। जगह-जगह जल भराव ने खास तौर उन लोगों के लिए दिक्कत खड़ी कर दी है, जो दुपहिया पर सवार होकर यहां से गुजर रहे हैं।
शहर का सबसे महत्वपूर्ण मार्ग देवी रोड इन दिनों सबसे खस्ताहाल है। यह मार्ग नजीबाबाद चौराह से लेकर करीब एक किमी आगे तक इतनी बुरी हालत में है कि इस पर चलने से हर कोई कतरा रहा है, लेकिन मजबूरी में चलना पड़ रहा है। सड़क पर इतने गड्ढे़ हो रखे हैं कि कई जगह पर तो पता ही नहीं चल रहा कि सड़क आखिर है कहां। जगह-जगह पानी जमा हो रखा है। उस पर लगातार हल्के और भारी वाहन चलते रहते हैं। इससे मार्ग पर पड़े गड्ढे और भी बड़े होते जा रहे हैं। पूर्व में देवी रोड पर सिंचाई विभाग की खुली नहर चलती थी। यह ड्रेनेज का काम भी कर लेती थी, मगर इसे अंडरग्राउंड कर इसमें ह्यूम पाइप लगा दिए गए हैं। इस काम के दौरान हुए गड्ढे़ अब परेशानी दे रहे हैं।

-जहां पर पानी जमा हो रखा है, वहां पर निकासी के लिए जगह नहीं बन पा रही है। थोड़ी निकासी की संभावना भी हो तो उस पर काम किया जा सकता है। सड़क की स्थिति को सही करने का काम तो बरसात के बाद ही हो सकेगा।
-सत्यवीर त्यागी, सहायक अभियंता, लोनिवि दुगड्डा

इस बैंक में बगैर छाता नहीं होता काम
कोटद्वार। आपने बरसात में लोगों को अक्सर छाता लिए देखा होगा, लेकिन बैंक के अंदर कर्मचारी छाता लेकर काम करते दिखे, तो इसे आप क्या कहिएगा। नजीबाबाद रोड स्थित एक बैंक की शाखा में कुछ ऐसा ही नजारा बारिश होने पर दिखाई पड़ रहा है। शुक्रवार को फिर बारिश हुई, तो कर्मचारियों ने छाते लगा लिए। लगातार टपक रही छत की वजह से उपभोक्ताओं के छाते भी बैंक के भीतर खुले हुए दिखलाई पडे़।
बैंक की छत काफी समय से टपक रही है। शुक्रवार को ग्राहकों ने बैंक प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी भी की। छत टपकने से बैंक के ग्राहकों और कर्मचारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बैंक में कुछ देर खड़ा रहना भी मुश्किल हो रहा है। ग्राहकों को बैंक के अंदर भी छाते की जरूरत पड़ रही है। बैंक पानी से भरा हुआ है, लेकिन बैंक प्रबंधन इस ओर आंखें मूंदे बैठा है। शाखा मैनेजर संजीव गुप्ता का कहना है कि बैंक को नई बिल्डिंग में शिफ्ट करना है। नई बिल्डिंग में काम चल रहा है इसके चलते ही इस तरह की स्थिति बनी हुई है। इसे एक माह के अंदर शिफ्ट कर दिया जाएगा, लेकिन ग्राहकों का कहना है कि पानी टपकने की स्थिति पिछले एक वर्ष से चल रही है। फि र भी इस पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। नाराजगी जताने वाले उपभोक्ताओं में अरुण गुप्ता, अरविंद कुमार, मनीष, सचिन, सुरेंद्र काला और संदीप नेगी सहित आदि शामिल थे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

राहुल गांधी के काफिले का विरोध करने पर बवाल, भाजपाइयों को कांग्रेसियों ने पीटा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का विरोध जताने पहुंचे भाजपाइयों की कांग्रेसियों से भिड़ंत हो गई। जिसमें कांग्रेसियों ने भाजपाइयों की पिटाई कर दी।

15 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper