बेटे की लाश पाने को 15 घंटे इंतजार

Nainital Updated Wed, 22 Jan 2014 05:52 AM IST
हल्द्वानी। सात जनवरी को चंपावत के सीएमओ के वाहन से हुए हादसे के घायल चकरपुर खटीमा के विक्रम सिंह ने मंगलवार तड़के सुशीला तिवारी अस्पताल में दम तोड़ दिया। बेटे की लाश की खातिर बूढ़े पिता को करीब 15 घंटे इंतजार करना पड़ा। पोस्टमार्टम में आई अड़चन की वजह से पिता बेटे की लाश को मोरचरी में छोड़कर देर शाम तक कानूनी प्रक्रिया में फंसे रहे।
चंपावत के सीएमओ के वाहन की टक्कर से घायल विक्रम सिंह (37) को सात जनवरी को हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके सिर में गंभीर चोट लगी थी। 13 दिन चले उपचार के बाद सोमवार रात करीब साढ़े तीन बजे विक्रम ने दम तोड़ दिया। इसके बाद शव पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल की मोरचरी भेजा गया तो साथ में एमएलसी नहीं भेजी गई। एमलसी के इंतजार में विक्रम के बुजुर्ग पिता तारा सिंह दिन में करीब दो बजे तक मोरचरी में बैठे रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ये हैं आरोप

वेतनमान बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बता दें कि आशा कर्यकर्ता देहरादून के परेड ग्राउंड के पास धरना प्रदर्शन कर रही थीं जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

14 अक्टूबर 2017