दिल छूती नजमों से राष्ट्रीय एकता का संदेश दे गए शायर

Nainital Updated Sat, 03 Nov 2012 12:00 PM IST
नैनीताल। शरदोत्सव 2012 में शुक्रवार की रात का मुख्यमंच उर्दू शायरों के नाम रहा। इसमें मशहूर शायरों ने उर्दू एवं हिंदी के बेहतरीन शब्द सामंजस्य से जहां लोगों के दिलों में दस्तक देकर वाववाही लूटी वहीं राष्ट्र को एकसूत्र में पिरोकर राष्ट्रीय एकता का संदेश भी दिया। कई शायरों ने किसी आशिक के दर्द को बयां किया तो किसी ने गांधी का चोला पहनकर अपने को राष्ट्रभक्त बताने वालों पर तंज भी कसा।
कार्यक्रम में अना दहलवी ने सरस्वती वंदना की कुछ पंक्तियां कहकर कर खूबसूरत शुरूआत का आगाज किया। इसके बाद अल्तमस अन्नास ने क्या मुझको मोहब्बत का सलीका नहीं, जा किसी और का होने की इजाजत है तुझे.. से वाहवाही लूटी। मेरठ के वारिस वारसी ने सिर्फ उसकी कुदरत को फैसला करना है, किसको डूब जाना है किसे पार उतरना है। कुछ खबर भी है तुमको कांच के मका वालों, कांच का मुकद्दर तो टूट कर बिखर जाना है।।, अख्तर ग्वालियरी ने मैं वो चिराग हूं कि लौ जिसकी मध्यम है, मगर हवा के मुकबिल हूं ये क्या कम है तथा बनज कुमार ने क्या सचमुच ये रह गया जीने लायक गांव, न पैरों के हाथ हैं न पानी के पांव पर तालियां बटोरीं।
अना दहलवी ने राष्ट्र के प्रति प्रेम की पंक्तियां कुछ इस तरह कहीं किरन देना सुमन देना चमन देना न धन देना, वतन वालो मुझे तो सिर्फ इतना सा वचन देना। आना दिल में मेरे दिल में तमन्ना है, अगर मर भी जाऊं तो तिरंगे का कफन देना।। जिन पर लोगों ने सिर झुकाकर सजदा किया। एहसान वारसी अतहर ने तुम्हारी झूठी तसल्ली हमारे जख्म का मरहम नहीं, चमन को खून हमने भी दिया है हमारी कार सेवा भी कम नहीं। नज्म से देश की आजादी के लिए हिंदु मुस्लिम आदि की सांझी भावनाओं को बयां किया। डा.युनुस अहमद ने शिकवा उनसे रूबरू कहा है आज, खूबसूरत गुफ्तगू कहा है आज..कहकर बेहतर आवाज में अदायगी की। इस मौके पर मलिक जावेद, अलीक नुबानी, शमशाद, अंजुम, ़डा.युनुस, वारिस वरुबी, अफजल मंगलौरी, संदीप शर्मा, सुरेद्र दूबे, प्रदीप चौबे, राजेंद्र, रश्मि सबा समेत दो दर्जन शायरों ने अपनी नज्म पेश की। देर रात्रि मशहूर शायर राहत इंदौरी की नज्म पर राज्यपाल डा.अजीज कुरैशी ने भी इरशाद कहकर उनके कलाम की दाद दी। निजामत (संचालन) निर्मल ने किया।

वर्तमान दौर के गीतों में शायरी रूपी शरीर से आत्मा नदारद:इंदौरी

नैनीताल। मशहूर शायर राहत इंदौरी ने कहा कि वर्तमान दौर के गीतों में शायरी रूपी शरीर तो है लेकिन आत्मा नदारद है। बीते दशकों में तीन-चार महीनों की कड़ी मशक्कत के बाद शायर एक नज्म बनाते थे जिसमें संगीत देकर उसे अजर अमर बनाया जाता था, लेकिन आज के दौर में चंद घंटे में नज्म बन जाती है और बना दिया जाता है संगीत। इसीलिए पुराने गीत 5-6 दशकों बाद आज भी जीवंत हैं और नए गीत आने के कुछ समय बाद ही विदा हो गए।
शरदोत्सव 2012 के मुशायरे में शिरकत करने आए मशहूर शायर राहत इंदौरी ने कहा कि पूर्व में भी वह नैनीताल में होने वाले शरदोत्सव में शिरकत करते रहे हैं। लेकिन बीते दशकों में मुशायरे को शरदोत्सव में तरजीह नहीं दी गई। इस वर्ष प्रदेश के राज्यपाल डा.अजीज कुरैशी के निर्देश के बाद उन्हें फिर से यहां आने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि कौमी एकता तथा राष्ट्रीय एकता की अलख जगाने वाले शायरों को भी ऐसे कार्यक्रम में तरजीह दी जानी चाहिए।
श्री इंदौरी ने कहा कि समृद्धशाली अतीत की शायरी की यह परंपरा स्वदेश से आस्ट्रेलिया, वाशिंगटन समेत विभिन्न देशों में तो पहुंच गई है, लेकिन यहां इसका आपेक्षित विकास नहीं हो पा रहा है। उन्होंने उदीयमान शायरों तथा शायरी की बेहतर भविष्य के लिए संबंधित आयोजनों को जरूरी बताया, जिससे पुरानी रिवायते जिंदा हो सकें। उन्होंने कहा कि वह देश के प्रतिष्ठित आईटी, इंजीनियरिंग आदि इंस्टीट्यटों में मुशायरे आदि के आयोजन कर चुके हैं वहां भी इन्हें काफी सराहा जाता है।
मुन्ना भाई एमबीबीएस, मिशन कश्मीर, मर्डर -2, इश्क, नाराज आदि चर्चित फिल्मों को अपनी शायरी से मशहूर बनाने वाले मशहूर शायर ने संबंधित क्षेत्र में कार्य कर रहे लोगों का आह्वान किया कि वह अपने स्तर से शायरी के मूल को जीवंत करने के प्रयास करें।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

14 साल के इस बच्चे ने कराई चार कैदियों की रिहाई, दान में दी प्राइज मनी

14 साल के आयुष किशोर ने चार कैदियों की रिहाई के लिए दान कर दी राष्ट्रपति से मिली प्राइज मनी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ये हैं आरोप

वेतनमान बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बता दें कि आशा कर्यकर्ता देहरादून के परेड ग्राउंड के पास धरना प्रदर्शन कर रही थीं जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

14 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper