अष्टका तिथि पर आज होंगे अधिकांश श्राद्ध

Nainital Updated Mon, 08 Oct 2012 12:00 PM IST
हल्द्वानी। पितृपक्ष के अष्टका श्राद्ध पर आज अधिकांश लोग पितरों का श्राद्ध करेंगे। कई लोग तीर्थ स्थलों पर श्राद्ध कर्म के संपन्न कराते हैं और गरीबों को पितरों की तृप्ति के निमित्त दान आदि करते हैं। कल अन्वष्टका श्राद्ध तिथि पर मातृ नवमी का श्राद्ध किया जाएगा। पार्वण श्राद्ध में मातृ पितरों का श्राद्ध नवमी तिथि को ही होता है।
ज्योतिषियों के मुताबिक भविष्य पुराण में नित्य, नैमित्तिक, काम्य, वृद्धि, सपिंडन और पार्वण रूप से श्राद्ध 12 प्रकार के बताए गए हैं। इनके अलावा नंदीमुख, षोडशाह, वार्षिक, गया श्राद्ध, तीर्थ श्राद्ध आदि इनसे भिन्न हैं। साधारणतया दो प्रकार के श्राद्धों का विधान देखने को मिलता है। जिन्हें तिथि श्राद्ध और पार्वण श्राद्ध कहा गया है। ज्योतिषियों के मुताबिक तिथि श्राद्ध प्रति वर्ष उस तिथि को किया जाता है, जिस तिथि को मनुष्य की मृत्यु हुई हो, जबकि पार्वण श्राद्ध प्रतिवर्ष पितृ पक्ष में किए जाते हैं। सनातन धर्म संस्कृत महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डा. गोपाल दत्त त्रिपाठी ने बताया कि पितृ पक्ष की अष्टमी के अवसर पर सर्वाधिक श्राद्ध किए जाते हैं। जो लोग मातृ नवमी का श्राद्ध करते हैं और उनके पितरों की तिथि मातृ नवमी के बाद होती है या फिर किसी कारणवश इन सात दिनों में श्राद्ध नहीं कर पाए, उन लोगों ने आज पितरों का श्राद्ध करते हैं।

...इनसेट....
पूरे दिन व्यस्त रहेंगे पंडित
हल्द्वानी। अष्टका और अन्वष्टका पर बड़ी संख्या में श्राद्ध होंगे। रिकार्ड श्राद्ध के चलते शहर के सभी पंडित आज अष्टका और मंगलवार को अन्वष्टका पर पूरे दिन व्यस्त रहेंगे। श्राद्ध पक्ष में अष्टका, अन्वष्टका और अमावस्या को सर्वाधिक श्राद्ध होते हैं। अमावस्या को वे लोग श्राद्ध करते हैं, जिनके मातृ नवमी का श्राद्ध नहीं होता है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ये हैं आरोप

वेतनमान बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बता दें कि आशा कर्यकर्ता देहरादून के परेड ग्राउंड के पास धरना प्रदर्शन कर रही थीं जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

14 अक्टूबर 2017