मुन्नाभाई ने सरेंडर को कोर्ट में लगाई अर्जी

Nainital Updated Mon, 24 Sep 2012 12:00 PM IST
हल्द्वानी। यूपीएमटी परीक्षा में धोखाधड़ी से दाखिला लेने वाले हरिद्वार के मुन्नाभाई ने किशोर न्यायालय में आत्मसमर्पण के लिए प्रार्थनापत्र दिया है। फरार मुन्नाभाई 2011 से वांछित है। उसको गिरफ्तार करने के लिए पुलिस ने कई बार उसके हरिद्वार स्थित लक्सर के आवास में दबिश दी लेकिन वह हत्थे नहीं चढ़ा। पुलिस ने अब आत्मसमर्पण करने से पहले मुन्नाभाई को दबोचने के लिए जाल बिछाया है।
सुशीला तिवारी राजकीय मेडिकल कालेज के प्राचार्य की ओर से छह मई 2011 को यूपीएमटी परीक्षा में धोखाधड़ी से दाखिला लेने वाले 17 छात्रों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। इस प्रकरण में 12 मुन्नाभाई पुलिस से बचकर कोर्ट में आत्मसमर्पण कर चुके हैं। जबकि पुलिस ने तीन मुन्नाभाई गिरफ्तार किए थे। पुलिस की लिस्ट में हरिद्वार के लक्सर के शिवपुरी निवासी हर्षित कंचन और सेवला कला थाना पटेल नगर देहरादून निवासी गौरव सिंह अभी भी फरार हैं। मामले के विवेचक ने बताया कि हर्षित की जन्म तिथि 10/7/1994 है। वर्तमान में हर्षित किशोर है। इसलिए हर्षित ने किशोर न्यायालय में आत्मसमर्पण करने के लिए प्रार्थना पत्र लगाया है। हर्षित के प्रार्थना पर शीघ्र सुनवाई होने वाली है। विवेचक ने बताया कि हर्षित के आत्मसमर्पण करने के बाद अब इस प्रकरण में गौरव ही वांछित रहेगा। गौरव की गिरफ्तारी के लिए उसके घर और उसकी रिश्तेदारियों में छापामारी की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ये हैं आरोप

वेतनमान बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बता दें कि आशा कर्यकर्ता देहरादून के परेड ग्राउंड के पास धरना प्रदर्शन कर रही थीं जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

14 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls