आठ घंटे बवाल

Nainital Updated Fri, 21 Sep 2012 12:00 PM IST
हल्द्वानी। एमबीपीजी कालेज छात्रसंघ चुनाव की तारीख को लेकर बृहस्पतिवार की पूर्वाह्न 11 बजे शुरू हुआ बवाल आठ घंटे बाद समाप्त हो सका। छात्र संगठनों की अराजकता के आगे कालेज और नगर प्रशासन को बार चुनाव की तारीख बदलने को मजबूर होना पड़ा। 25 सितंबर की तारीख तय होने पर एबीवीपी छात्रनेताओं की सहमति के बावजूद इस संगठन के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी ने तारीख बदलने के विरोध में आत्मदाह का प्रयास करने का हाई प्रोफाइल ड्रामा किया तो एनएसयूआई के दर्जनों कार्यकर्ता भी सड़क पर आ गए। एनएसयूआई छात्रनेताओं ने भी कालेज प्रशासन द्वारा चुनाव की 25 तारीख घोषित करने के विरोध में करीब डेढ़ घंटे तक नैनीताल हाईवे जाम कर ट्रक के टायर जला दिए। बाद में सिटी मजिस्ट्रेट एवं सीओ की मध्यस्थता में दोनों छात्र संगठनों की बैठक में आरोप - प्रत्यारोपों के बीच तीन घंटे की मशक्कत के बाद बमुश्किल चुनाव की नई तारीख तय हो सकी। अब छात्रसंघ चुनाव 26 सितंबर को होंगे तथा नामांकन 21 एवं 22 सितंबर को होंगे।
एमबीपीजी कालेज प्रशासन ने बुधवार को 24 सितंबर को छात्रसंघ चुनाव की अधिसूचना जारी की थी। लेकिन सिटी मजिस्ट्रेट ने गणेश महोत्सव कार्यक्रम का तर्क देकर इस तारीख पर चुनाव कराने में असमर्थता जताते हुए आज सुबह दस बजे इस मुद्दे पर अपने दफ्तर में कालेज प्रशासन की बैठक बुलाई थी। सिटी मजिस्ट्रेट उदय सिंह राणा और कालेज की चुनाव संचालन समिति छात्रसंघ चुनाव की नई तारीख को लेकर मंथन कर रहे थे कि पूर्वाह्न करीब 11 बजे एबीवीपी कार्यकर्ता सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंच गए और तारीख बदलने के विरोध में धरना दे दिया। बाद में एबीवीपी कार्यकर्ता सिटी मजिस्ट्रेट के कक्ष में घुस गए और उनसे उलझ गए। सिटी मजिस्ट्रेट नेे 24 तारीख को चुनाव कराने में गणेश महोत्सव के जुलूस निकलने पर पुलिस की व्यस्तता का हवाला दिया तो एबीवीपी नेता 25 सितंबर को चुनाव कराने पर सहमत हो गए। कालेज प्रशासन ने भी इस तारीख पर अपनी मोहर लगा दी। सिटी मजिस्ट्रेट के साथ बैठक में कालेज के प्राचार्य डा. बीसी मेलकानी, मुख्य निर्वाचन अधिकारी डा. कमल जोशी, चीफ प्राक्टर डा. भरत सिंह, डा. वाईसी सिंह, डा. डीसी पंत, डा. डीएस कुंवर, केडी परगंाई, टीएस जलाल एवं मोहन लाल भगत शामिल थे।
नगर प्रशासन से वार्ता के बाद कालेज प्रशासन ने दोपहर को पुन: 25 सितंबर को छात्रसंघ चुनाव होने की संशोधित अधिसूचना जारी कर दी। जिसमें नामांकन से लेकर नाम वापसी तक के कार्यक्रम यथावत रखे गए। केवल चुनाव की तारीख और शपथग्रहण की तारीख बदली गई। इसी बीच पुलिस प्रशासन को जब यह खबर मिली कि एबीवीपी अध्यक्ष पद प्रत्याशी विरेंद्र सिंह बिष्ट अपराह्न एक बजे आत्मदाह करेगा तो कालेज परिसर एवं गेट के आसपास का इलाका पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। करीब डेढ़ बजे हाई प्रोफाइल ड्रामे के तहत एबीवीपी से अध्यक्ष पद प्रत्याशी विरेंद्र बिष्ट कार में बैठ कर कालेज के उत्तरी गेट पर पहुंचा। वह कैसे आत्मदाह करेंगे और पुलिस कैसे उन्हें पकड़ेगी, इसकी पूरी रणनीति पुलिस को पहले ही बता दी गई थी। हाई वोल्टेज ड्रामे के तहत अध्यक्ष प्रत्याशी को कार से उतरते ही पुलिस दरोगा ने दबोच लिया, इसी बीच वहां मौजूद एबीवीपी के अन्य कार्यकर्ताओं ने बोतल खोलकर पेट्रोल छिड़क डाला। पुलिस ने गुत्थम - गुत्था के बाद एक छात्र को दबोच कर जीप में बैठा लिया लेकिन एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने जीप आगे नहीं बढ़ने दी। काफी देर तक पुलिस और छात्रों के बीच भागम - भाग चलती रही। बाद में पुलिस बमुश्किल अध्यक्ष प्रत्याशी विरेंद्र और अन्य छात्र को जीप में डालकर थाने ले गई। एबीवीपी कार्यकर्ता 24 तारीख बदलने का विरोध जता रहे थे।
इधर, एबीवीपी का हाई वोल्टेज ड्रामा देख एनएसयूआई कार्यकर्ताओं भी सड़क पर उतर आए। एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष सुमित्तर भुल्लर, प्रदेश महासचिव मनोज भट्ट, मुकुल बल्यूटिया, विपिन परगांई, मनीष बलूनी, गजेंद्र गौनियां, गौरव सिंहवाल, गुरुप्रीत सिंह प्रिंस समेत दर्जनों कार्यकर्ता कालेज में घुस गए और प्राचार्य और चीफ प्राक्टर से उलझ गए। चुनाव कार्यालय में ताला डाल कर उसकी चाबी ले ली। उनका आरोप था कि 25 सितंबर की चुनाव की तारीख एबीवीपी के दबाव में तय की गई है, इस दिन वे चुनाव नहीं होने देंगे। नई तारीख तय करने को लेकर कालेज प्रशासन से एक घंटे तक घेरे रखा। जब कोई हल नहीं निकला तो एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने अपराह्न करीब तीन बजे कालेज के सामने नैनीताल हाईवे पर जाम लगा दिया। सिटी मजिस्ट्रेट उदय सिंह राणा और सीओ प्रमेंद्र सिंह डोभाल कालेज में प्राचार्य से इस मसले का हल निकलाने का प्रयास कर रहे थे कि इसी दौरान छात्रनेता कहीं से ट्रकों के टायर ले आए और हाइवे पर टायरों में आग लगा दी। हाइवे पर आगजनी देख वहां भीड़ लग गई। बाद में सिटी मजिस्ट्रेट और सीओ ने छात्रों को नई तारीख तय करने आश्वासन देकर जाम खुलवाया। दमकल कर्मियों ने टायरों की आग बुझाई तो करीब साढ़े चार बजे हाइवे पर यातायात सुचारु हो सका।
इसके उपरांत कालेज के प्राचार्य कक्ष में एनएसयूआई और एबीवीपी छात्रनेताओं की बैठक कराई गई। सिटी मजिस्ट्रेट और सीओ की मध्यस्थता के बावजूद दोनों पक्षों में तकरार होती रही तथा करीब तीन घंटे की बहस के उपरांत चुनाव की नई तारीख पर सहमति बन सकी।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

RLA चंडीगढ़ में फिर गलने लगी दलालों की दाल, ऐसे फांस रहे शिकार

रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) सेक्टर-17 में एक बार फिर दलाल सक्रिय हो गए हैं, जो तरह-तरह के तरीकों से शिकार को फांस रहे हैं।

21 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ये हैं आरोप

वेतनमान बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बता दें कि आशा कर्यकर्ता देहरादून के परेड ग्राउंड के पास धरना प्रदर्शन कर रही थीं जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

14 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper