ईद की तैयारियों पर सजा बाजार

Nainital Updated Sun, 19 Aug 2012 12:00 PM IST
हल्द्वानी। रमजान के रोजों के बाद अब ईद की खुशियां बटोरने के लिए हर कोई बेताब है। छोटे-बड़े मियां से लेकर हर शख्स ईद पर खुद को दूसरे से अलग दिखाने की चाह में बाजार से खरीददारी में जुटा है। ईद की तैयारियों के लिए हल्द्वानी वनभूलपुरा में बाजार सज गए हैं। बाजारों में ग्राहकों की रौनक है। करांची का वर्क शूट, लखनवी चिकन के कुर्ता पाजामा और फीरोजाबाद की चूड़ियां ग्राहकों की पसंद बनी हैं। बाजारों में ग्राहकों की भीड़ उमड़ने से कारोबारियों के चेहरे खुले हैं।
हल्द्वानी में वनभूलपुरा के लाइन नंबर 16, 17 और एक से लेकर ताज चौराहे के आसपास पूरा बाजार सज गया है। बाजारों में रंग बिरंगी टोपियां, फ्रॉक, कुर्ते पाजामे, सूट, सैंडिल की दुकानों पर ग्राहकों की रौनक है। ईद को लेकर बाजार में कई वैराइटी आई हैं। गारमेंट् विक्रेता मो अदनान बताते हैं, रोटियों की खूब बिक्री हो रही है। ऊनी से लेकर रेशमी और कॉटन की टोपियां 60 से 120 रुपये की बिक रही हैं। मो अफ्फान के मुताबिक लखनवी चिकन कुर्ता पाजामा तीन हजार और अलीगढ़ का कुर्ता पाजामा 2500 रुपये का है। बच्चों के खान शूट 450 से 700 रुपये में बिक रहे हैं।
लीलन के कुर्ते पांच हजार तक हें। मंसूर कॉटन के कुर्ते 1200 रुपये तक हैं। चूड़ी विक्रेता मो अनवार के मुताबिक चायनीज चूड़ियों और कंगनों की मांग अधिक है। फैंसी चूड़ियां 50 से 200 रुपये दर्जन और कंगन 250 से 500 रुपये जोड़ा हैं। फरोजाबाद की चूड़ियों की भी धूम मची है। लाइन नंबर 17 के गारमेंट्स विक्रेता मोनिस अली बताते हैं, महिला करांची वर्क शूट की दिवानी हैं। करांची वर्क शूट एक से तीन हजार रुपये का सूट है। जरकीन वर्क सूट 2500 रुपये की रेंज का है। गले में कड़ाई वाले कॉटन के सूट की अधिक मांग है। इनकी कीमत एक हजार रुपये तक है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, ये हैं आरोप

वेतनमान बढ़ाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहीं आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बता दें कि आशा कर्यकर्ता देहरादून के परेड ग्राउंड के पास धरना प्रदर्शन कर रही थीं जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

14 अक्टूबर 2017