बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

तो इस दुर्गति के लिए बना शॉपिंग कांप्लेक्स

Nainital Updated Tue, 14 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
हल्द्वानी। अगर आप सरस मार्केट में बने कुमाऊं मंडल विकास निगम के शॉपिंग कांप्लेक्स में चले जाएं तो सबसे पहले गुटखा की पीक से चमचमाती लाल दीवारें आपका स्वागत करेंगी। फिर जहां-तहां बिखरा कूड़ा। अंदर घुसे तो बंद दुकानों के आगे से उठती यूरिन की दुर्गंध। करोड़ों रुपये का ढांचा बाहर से जितना विशाल और सुंदर, अंदर से उतना ही बदसूरत। क्या ऐसी दुर्गति के लिए ही बनाया गया शॉपिंग कांप्लेक्स। निगम की संपत्ति और अधिकारी दुर्गत से बेपरवाह।
विज्ञापन

शहर के बीचोंबीच बनी बिल्डिंग में शॉपिंग कांप्लेक्स प्रथम तल में चलता है। 74 दुकानें हैं इस कांप्लेक्स के भीतर। जैसे ही मुख्य गेट के बाद कांप्लेक्स की दहलीज लांघ अंदर घुसो तो घुप अंधेरा सामने। न लाइट की पुख्ता व्यवस्था और न ही साफसफाई का इंतजाम। 74 दुकानों में तीन दुकानों में इंडेन गैस का आफिस चलता है। तीन कमरों में एसी रखे गए हैं। 15 दुकानें खाली हैं और 53 किराए पर। इनमें से 17 दुकानें ही ऐसी हैं जिनके शटर खुलते हैं। बाकी के मालिकों का अतापता नहीं। गंदगी का आलम यह कि बंद दुकानों के शटर और सफेद दीवारों को गुटखा की पीक ने चमका रखा है।

घुप अंधेरे के कारण दुकानें शौचालय का भी काम कर रही हैं। इसका प्रमाण भीतर से उठता यूरिन की बदबू का भभका है। छतों में लगा फाइबर टूटकर लटक गया है। राज्य पर्यटन विभाग ने इस शापिंग कांप्लेक्स का निर्माण कराने के बाद केएमवीएन को कर्ताधर्ता की जिम्मेदारी सौंपी। निगम दुकानों का सिर्फ किराया वसूलने तक सीमित है। निर्माण के बाद से आज तक बिल्डिंग में रंगरोगन नहीं किया गया। गुफानुमा आकार का प्रथम तल जहां कभी भीड़भाड़ रहती थी, वहां अब आने से पहले लोग दस बार सोचते होंगे। लगता है कि बेपरवाह निगम को किराए, अपने मुनाफे से ही मतलब है। इस दुर्गत से नहीं।

द्वितीय तल आधा-अधूरा
शापिंग कांप्लेक्स का द्वितीय तल 24 हजार स्क्वायर फिट का विशाल हाल है। इस हाल का निर्माण अब तक आधा-अधूरा पड़ा है। प्लास्टर करने के बावजूद अंदर से रंगरोगन पूर्ण नहीं हुआ। फर्श पर भी प्लास्टर नहीं है। इस हाल को एक बार पीपीपी मोड में चलाने के लिए शासन को प्रस्ताव भी भेजा गया। लेकिन कोई जवाब नहीं मिलने के बाद निगम ने भी मुंह फेर लिया।

एमडी बोले
कुमाऊं मंडल विकास निगम के प्रबंध निदेशक दीपक रावत का कहना है कि शापिंग कांप्लेक्स की दुकानें यदि किराए पर लगाई जाती हैं तो किराएदार के साथ एग्रीमेंट का अधिकार निगम को नहीं है। शासन ने अब तक पूरी तरह से निगम को कांप्लेक्स संचालन की छूट नहीं दी है और न ही कांप्लेक्स के रखरखाव का खर्चा उठाया जा रहा है। साफसफाई का जहां तक सवाल है तो इसे दुरुस्त रखने की व्यवस्था बनाई जाएगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X