लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Haridwar ›   The color of inflation rose on the pitch of Holi

होली के रंग-पिचकारी पर महंगाई डायन का वार

Dehradun Bureau देहरादून ब्यूरो
Updated Mon, 14 Mar 2022 12:57 AM IST
The color of inflation rose on the pitch of Holi
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बच्चे हो या बड़े होली का इंतजार हर किसी को बड़ी ही बेसब्री से रहता है। होली एक ऐसा त्योहार है जिसमें दुश्मन में गिले शिकवे भूलकर खुशी से आपके रंग में रंग जाता है। धर्मनगरी होली की खासी तैयारियां चल रही है। होली के त्योहार में कोई कमी न रह जाए इसलिए दुकानों पर रंग, गुलाल और पिचकारियों की खासी वैरायटी उपलब्ध है। मगर इस बार होली के रंग, पिचकारी व गुब्बारों पर महंगाई की मार पड़ गई है। पिछले साल के मुकाबले इस साल रंग, पिचकारी के दाम 10 फीसदी बढ़े हैं।

होली का चटक रंग बाजारों पर चढ़ने लगा है। खरीदारी के लिए बाजारों में भीड़ उमड़ने लगी है। रंग, अबीर-गुलाल और बच्चों को लुभाने वाली आकर्षक पिचकारी की दुकानें सज गई है। रानीपुर मोड़ पर रंग विक्रेता दुर्गेश ने बताया कि इस बार बच्चों के लिए डोरेमोन, स्कूल बैग, बेन टेन, बार्बी डॉल, क्रिकेट के दीवानों के लिए विराट कोहली, मोदी-योगी की पिचकारी नई किस्म की आई है। इसके साथ ही होली की टी शर्ट जिस पर होली से संबंधित डिजाइन बने हैं। बाजार में उपलब्ध है। इसके साथ ही रंग स्प्रे, होली पटाका, मुर्गा का पटाका में रंग, 5 शॉट रंग- गुलाल, बैलून में जादू का गुब्बारा, जादू का गिलास, मुखौटा, पिचकारी वाला चश्मा, कार्टन मास्क की अनेकों वैराइटी पास उपलब्ध है।

उन्होंने बताया कि पिचकारी 20 से लेकर 600 रुपये तक की है। इस बार इंफेक्शन को ध्यान में रखते हुए हर्बल अबीर भी बिक्री के लिए बाजारों में दिखाई पड़ रहा है। ज्वालापुर में होली का सामान बेच रहे अमित कुमार ने बताया कि होली पर इस बार मेड इन इंडिया का सामान भी महंगा हुआ है। चीन निर्मित पिचकारी और अन्य सामान पूरी तरह से गायब है। दुकानदार भी इस साल होली में अच्छी कमाई होने की उम्मीद लगाए हैं। इस हिसाब से हुए बाहर से अधिक माल मंगा चुके हैं।
दुकान पर लगी सेल
होली के अवसर पर होलिका दहन वाले दिन नए कपड़े पहना शगुन माना जाता है। ऐसे में बाजार में कपड़ों और जूूतों की खरीदारी भी अधिक हो रही है। होली के लिए हर मेल के कपड़े और जूते व चप्पल बाजारों में वैरायटी के अनुसार सजे हुए हैं। इसके साथ ही बच्चों के गले में डाले जाने वाली होली हार की खरीदारी भी जमकर हो रही है।
होलिका दहन का मुहूर्त
नारायण ज्योतिष संस्थान के विकास जोशी ने बताया कि होलिका दहन फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को किया जाता है। इस साल पूर्णिमा तिथि 17 मार्च को पड़ रही है। अगले दिन चैत्र मास की प्रतिपदा तिथि को रंग वाली होली खेली जाएगी। 17 मार्च को दोपहर 1.29 से शुरू होकर 18 मार्च दोपहर 12.39 तक रहेगी। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार होलिका दहन का मुहूर्त 17 मार्च को रात 9.20 के बाद 10.31 तक रहेगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00