आमरण अनशन पर बैठे ग्रामीणों का वजन घटा

Haridwar Updated Thu, 25 Oct 2012 12:00 PM IST
रुड़की। जल निकासी बहाल की मांग लेकर आमरण अनशन पर बैठे मोहनपुरा के ग्रामीणों के वजन में कमी आई है, लेकिन प्रशासन ने ग्रामीणों की समस्या के समाधान के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है। प्रशासन के इस रवैये से ग्रामीणों में गहरा रोष व्याप्त है।
ग्रामीण बुधवार को पांचवें दिन भी जल निकासी की समस्या के समाधान की मांग को लेकर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट कार्यालय के बाहर आमरण अनशन पर डटे रहे। आमरण अनशन पर बैठे प्रधान पति पवन पाल का छह, मांगेराम में दो और राजबीर पाल में एक किलोग्राम वजन कम हो गया। बुधवार को धरने पर पहुंचे जयभीम ने कहा कि एक ओर तो शासन-प्रशासन सफाई के नाम पर लाखों खर्च कर रहा है। वहीं जल निकासी बंद होने से गंदगी में तब्दील हुए गांव में संक्रमण बीमारी फैलने की आशंका बढ़ती जा रही है।
किसान एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष धर्मपाल रोड ने कहा कि ग्रामीणों की समस्या का जल्द समाधान नहीं हुआ तो एसोसिएशन तहसील प्रशासन की ईंट से ईंट बजा देगा। सेवादल के राजबीर रोड ने कहा कि तहसील प्रशासन जल्द होश में नहीं आया तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ग्रामीणों की समस्या के समाधान के लिए बड़ा आंदोलन करने को मजबूर हाेंगे। धरने में प्रधान प्रियंका पाल, गीता, मंजू देवी, पवन पाल आदि सैकड़ों ग्रामीण डटे रहे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

हरिद्वार जिला जेल से मिली ये जानकारी आपको चौंका देगी

उत्तराखंड से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल हरिद्वार जिला जेल में 16 कैदी एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं।

24 दिसंबर 2017