सड़कों पर आ जाएंगे ‘प्रभावित’

Haridwar Updated Mon, 20 Aug 2012 12:00 PM IST
हरिद्वार। फोरलेन की जद आए पावनधाम चौक भूपतवाला से मोतीचूर फाटक तक सड़क के दोनों ओर रहने वाले लोग और दुकानदार मुआवजा राशि को लेकर आशंकित हैं। फोरलेन का फाइनल नोटिफिकेशन अप्रैल 2010 में हुआ था। तब केे सर्किल रेट करीब 12 हजार रुपये वर्ग मीटर से बढ़कर 15 हजार रुपये वर्ग मीटर को भी पार गया है। वहीं बाजार रेट 40 से 45 हजार रुपये वर्ग मीटर की ऊंचाईयों को छू रहा है। ऐसे में प्रभावित लोगों को बड़ा आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा। साथ ही कई ऐसे लोग भी है जिनके नाम पर न तो दुकानें है और न ही घर, उनका सड़कों पर आना तय है।
पावनधाम चौक से मोतीचूर रेलवे फाटक से पहले दो किलोमीटर क्षेत्र में सड़क के दोनों ओर 150 से अधिक दुकानें, बड़े-बड़े होटल हैं। करीब 200 आवासीय भवन और आश्रम भी फोरलने की जद में आ रहे हैं। पिछले चार दिनों से जिला प्रशासन और एनएच की टीम डोर टू डोर जाकर प्रभावित लोगों की सूची बनाने के साथ मुआवजा के लिए दावे और शपथ पत्र मांग रही है। बड़ी संख्या में ऐसे मामले सामने आ रहे हैं कि जो लोग वर्तमान में काबिज हैं उनके नाम पर न तो दुकान है और न ही जमीन है। ऐसे लोगों का सड़क पर आना तय है।



संत बाहुल्य क्षेत्र का भूगोल ही बदल जाएगा
हरिद्वार। फोरलेन बनने से संत बाहुल्य भूपतवाला, सप्तऋषि क्षेत्र का पूरा भूगोल ही बदल जाएगा। कुछ लोग मिट जाएंगे और कुछ बन जाएंगे। जो आज सड़क के फ्रंट पर हैं वे गायब होंगे और जो पीछे हैं वह फ्रंट पर होंगे। विकास की इस प्रक्रिया में चोपड़ा भवन पूरी तरह मिट जाएगा। गंगा स्वरूप आश्रम की दुकानें, दूधाधारी आश्रम का गेट, शांतिकुंज के आसपास सड़क के दोनों ओर का बाजार का अस्तित्व भी समाप्त हो जाएगा।

बाजार रेट के लिये संघर्ष की तैयारी
फोरलेन से प्रभावित होने वाले दुकानदारों और अन्य व्यवसायियों ने वर्तमान बाजार रेट के हिसाब से मुआवजा तय कराने के लिये संघर्ष की तैयारी शुरू कर दी है। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं होटल पार्क व्यू के संचालक ओमप्रकाश जमदग्नि ने कहा कि बाजार रेट पर मुआवजा तय नहीं हुआ तो आंदोलन होगा। व्यापारी नेता पूरण चंद पंत, मास्टर सतीश शर्मा आदि ने भी आंदोलन की बात कहीं।

कोट

मुआवजा तय करने में बीच का रास्ता निकाला जाएगा। जनहित को ध्यान में रखा जाएगा। नोटिफिकेशन के समय के सर्किल रेट तो आधार है ही। सबसे अधिक रेट का जो बैनामा होगा उसके आधार पर मुआवजा तय किया जाएगा। इसके बाद भी यदि दावेदारों को आपत्ति होगी तो वह रेट तय कराने के लिए डीएम के समक्ष आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। डीएम जो रेट तय करेंगे वह दिया जाएगा। -केके मिश्रा, भूमि अध्याप्ति अधिकारी।


प्रशासन की मदद के लिए हमने मुआवजे के दावेदारों की सूूची बनाने के लिए अपनी एक टीम लगाई है जिससे कोई छूटे नहीं। दावेदारों से शपथ-पत्र भी बनवाने को कहा जा रहा है, जिससे सही व्यक्ति को ही मुआवजा मिले। -एमके जैन, परियोजना निदेशक एनएच।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

हरिद्वार जिला जेल से मिली ये जानकारी आपको चौंका देगी

उत्तराखंड से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल हरिद्वार जिला जेल में 16 कैदी एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं।

24 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper