शहर हित में रहा गंगनहर को बंद करना

Haridwar Updated Mon, 06 Aug 2012 12:00 PM IST
हरिद्वार। पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश के चलते जहां गंगा का जल स्तर बढ़ा, वहीं भारी मात्रा में सिल्ट भी आ गई। हरिद्वार में शनिवार को गंगा का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया था। सिल्ट आने से गंगनहर बीती रात बंद करनी पड़ी थी। इससे शहरवासियों को भी राहत मिली। क्योंकि, रात को हरिद्वार में भी झमाझम बारिश होने से जलस्तर काफी बढ़ गया था। जिससे नहर का पानी बैक मार सकता था। हालांकि, रविवार शाम तक जलस्तर घटने के साथ ही गंगनहर में पानी छोड़ दिया गया है।
गंगनहर बंद करने की स्थिति में इसमें जाने वाला पानी नीलधारा और अन्य छोटी नहरों से निकाला गया। सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने रविवार की शाम चार बजे गंगनहर खोली थी। गंगा में पहाड़ी क्षेत्र से आए बरसाती पानी और सिल्ट के साथ ही रात को हरिद्वार में तेज बारिश हुई। इसे देखते हुए शनिवार को गंगनहर को बंद किया जाना शहर के हित में ही रहा। क्योंकि, लगातार हो रही बारिश का पानी बंद पड़ी गंगनहर में निकल गया। जबकि, गंगनहर को बंद नहीं करने की स्थिति में हर साल की तरह जलस्तर बढ़ने से नहर का पानी बैक मार जाता और मध्य हरिद्वार, खन्ना नगर समेत आसपास की अन्य कालोनियों में जल भराव की स्थित पैदा हो जाती। अधिकारियों का मानना है कि अगर गंगनहर को आज शाम नहीं खोला जाता, तो इसका असर दिल्ली की पेयजल व्यवस्था पर भी पड़ सकता था। दरअसल, गंगनहर का पानी मुरादनगर से पाइपलाइन के जरिए दिल्ली तक पहुंचता है, जहां इस जल को पीने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

हरिद्वार जिला जेल से मिली ये जानकारी आपको चौंका देगी

उत्तराखंड से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल हरिद्वार जिला जेल में 16 कैदी एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं।

24 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls