महिलाओं को नहीं मिला जाबकार्ड

Champawat Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
लोहाघाट। महिला समाख्या की ओर से ब्लाक सभागार में आयोजित कार्यशाला में विभिन्न क्षेत्रों से आई महिलाओं का कहना था कि उन्हें अभी तक मनरेगा के तहत कोई जॉबकार्ड या रोजगार नहीं दिया गया है। न ही उनके वयस्क बच्चों को इस योजना में शामिल किया गया है। डीपीओ रचना कोरंगा की अध्यक्षता एवं महिला समाख्या की मीनू पंत के संचालन में हुई कार्यशाला में ममता, बीना, कमला, ईश्वरी, चनी, देवकी देवी आदि का कहना था कि वर्तमान में जिन तरीकों से योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है, उसमें महिलाओं की कोई भागीदारी नहीं है। डीपीओ ने कहा कि भविष्य में प्रत्येक ग्राम पंचायत में महिलाओं की भागीदारी करने के साथ उन्हें सौ दिन का रोजगार दिया जाएगा।
यदि कहीं दिक्कतें आएंगी तो उनका ग्राम प्रधान और प्रशासनिक अधिकारी निराकरण करेंगे। महिला समाख्या की जिला समन्वयक भगवती पांडेय ने कहा कि कार्यशाला का मकसद ग्रामीण महिलाओं एवं कार्यक्रम से जुड़े लोगों को आमने-सामने कर योजना का सही क्रियान्वयन कर महिलाओं को उसका लाभ दिलाना है। कनिष्ठ प्रमुख दिनेश कलौनी ने अन्न पूरक योजना की जानकारी दी। पुष्पा सौन, मुन्नी, जानकी, कांता, विमला, नर्मदा, गोदावरी और गीता ने भी विचार रखे। कार्यशाला में चमदेवल, खीड़ी, शिलिंग, बसकुनी, हरखेड़ा, बचकड़िया, रौंसाल, मटियानी, क्वैराली, पुल्ला, डकला, जुजुरी आदि गांवों की महिलाओं ने भाग लिया।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO : गैस सिलेंडर में आग लगने पर न घबराएं, अपनाएं ये उपाय

उत्तराखंड के लोहाघाट में फायर ब्रिगेड कर्मियों ने अग्नि सुरक्षा जागरूकता अभियान चलाया। इस अभियान का शुभारंभ लोहाघाट के भीड़ वाले स्टेशन बाजार से किया गया।

9 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper