मंत्री के इंतजार में पथराई देवेश्वरी की आंखें

Chamoli Updated Sun, 26 Jan 2014 05:48 AM IST
गोपेश्वर। शनिवार को प्रभारी मंत्री प्रीतम सिंह पंवार कलक्ट्रेट सभागार में जब समीक्षा बैठक ले रहे थे तब सभागार के बाहर अपने आवासीय भवन के मुआवजे को लेकर एक महिला मंत्री की राह ताकती रही। शाम तक भी बैठक चलने से महिला को बैरंग लौटना पड़ा।
दशोली ब्लॉक के पलेठी गांव के दिनेश लाल की पत्नी देवेश्वरी देवी 27 जुलाई को आपदा से क्षतिग्रस्त हुए अपने आवासीय भवन के मुआवजे के लिए तहसील के चक्कर काटती रही। अधिकारियों ने भवन को आपदा मानकों के अनुरूप क्षतिग्रस्त न होने पर उसे लौटा दिया। देवेश्वरी का परिवार सात माह से अपने रिश्तेदारों के यहां शरण लिए हुए है। कलक्ट्रेट सभागार में आपदा बैठक देर शाम तक चली। देवेश्वरी का कहना है कि उनका आवासीय भवन रहने योग्य नहीं है। लेकिन तहसील अधिकारी इसे क्षतिग्रस्त मानने को तैयार नहीं हैं। इधर, एसडीएम अवधेश कुमार सिंह का कहना है कि मामले को देखा जाएगा। जरूरत पड़ी तो भवन का पुन: सर्वे कराया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए हुए बंद

बद्रीनाथ में बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए बंद हो गए। यहां हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाके में भी देखने को मिला। इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है।

19 नवंबर 2017