गोपेश्वर में चौतरफा मंडरा रहा खतरा

Chamoli Updated Sat, 25 Jan 2014 05:49 AM IST
गोपेश्वर। आपदा प्रभावित क्षेत्रों के सुधार और ट्रीटमेंट के दावे आदेश और निर्देशों से आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। यहां जिला मुख्यालय पर ही चौतरफा मंडरा रहे खतरे से बचने के लिए ट्रीटमेंट शुरू नहीं हो पाया है। जिला प्रशासन के निर्देश के बाद भी ट्रीटमेंट कार्य के लिए विभाग लापरवाह बने हुए हैं।
नगर के शीर्ष भाग पर स्थिति टेलीफोन टावर से लेकर बंज्याणी और कोलियालसैंण में जून माह की आपदा के दौरान भूस्खलन शुरू हो गया। पपडियाण मोहल्ले में वर्ष 2012 की आपदा के दौरान भूस्खलन शुरू हो गया था। एक वर्ष बाद भी इसका ट्रीटमेंट शुरू नहीं हो पाया है। यहां अब तक पांच मकान क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। इनके विस्थापन के लिए डेढ़ वर्ष बाद भी प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है।

भूस्खलन क्षेत्रों में से तीन स्थानों की भूगर्भीय सर्वे करवा दी गई है। प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजे गए हैं, स्वीकृति मिलते ही ट्रीटमेंट शुरू करवा दिए जाएंगे। बंज्याणी भूस्खलन जोन की सर्वे करवाई जा रही है। शीघ्र प्रस्ताव तैयार का स्वीकृति के लिए भेज दिया जाएगा। - नंदकिशोर जोशी, आपदा प्रबंधन अधिकारी, चमोली

भूस्खलन जोन

टेलीफोन टावर क्षेत्र
यह स्थान नगर के ठीक ऊपर स्थित है। यह चीड़ का जंगल है। इसके ठीक नीचे जीजीआईसी और नगर क्षेत्र हैं।

बंज्याणी तोक
यह स्थान गोपेश्वर गांव के निचले हिस्से में है। यहां प्राचीन प्राकृतिक जल स्रोत (बैतरणी कुंड) सहित ग्रामीणों की कई नाली कृषि भूमि उपलब्ध है। यहां निचले क्षेत्र से भूस्खलन जारी है।

पपडियाणा
यह स्थान स्पोर्ट्स स्टेडियम के नीचे है। यहां वर्ष 2012 से भूस्खलन हो रहा है। जिससे बसंत विहार, पपडियाणा, पटियालधार और ग्वीलों गांव को खतरा बना हुआ है।

कोठियाल सैंण
बदरीनाथ हाईवे से मात्र तीन किमी की दूरी पर स्थित कोठियालसैंण में अलकनंदा नदी से भूस्खलन हो रहा है। इससे चमोली-गोपेश्वर मोटर मार्ग सहित आवासीय भवनों को खतरा बना हुआ है।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए हुए बंद

बद्रीनाथ में बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए बंद हो गए। यहां हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाके में भी देखने को मिला। इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है।

19 नवंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper