खर्च करने में कंजूसी पर प्रभारी मंत्री नाराज

Chamoli Updated Fri, 30 Nov 2012 12:00 PM IST
गोपेश्वर। जिले के प्रभारी मंत्री प्रीतम सिंह पंवार ने विकास कार्यों में धन खर्च करने में कंजूसी दिखाने पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि विकास कार्यों में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी बख्शे नहीं जाएंगे। उन्होंने जिला प्रशासन से सामुदायिक विकास के अंतर्गत गैरसैंण में शीघ्र आवासीय भवनों के निर्माण की कार्य योजना तैयार करने के निर्देश भी दिए।
बृहस्पतिवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिला, राज्य, केंद्र पोषित और वाह्य साहयतित योजनाओं की समीक्षा बैठक में प्रभारी मंत्री पंवार ने कहा कि पेयजल निगम, जल संस्थान एवं समुदाय विकास में पिछले वर्ष की धनराशि ही अब तक खर्च नहीं हो पाई है। यह स्थिति चिंताजनक है।
बैठक में बताया गया कि इस वित्तीय वर्ष में धन खर्च करने में वन विभाग सबसे पीछे रहा। विभाग ने अवमुक्त 9.6 लाख में से मात्र 73 हजार रुपये ही खर्च किए हैं। प्रभारी मंत्री ने इस मामले में वन अधिकारियों को जिलाधिकारी से विस्तृत समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। प्रभारी मंत्री ने पेयजल, विद्युत, शिक्षा, स्वास्थ्य व सड़क पर विशेष ध्यान देने पर जोर दिया। जिलाधिकारी एसए मुरुगेशन ने कहा कि वर्ष 2012-13 के लिए जिले को जिला योजना में 55.71 करोड़ रुपये अवमुक्त हुए। जिसमें से अब तक 18.13 करोड़ रुपये खर्च हो गए हैं। राज्य सेक्टर में 89.7 करोड़ के सापेक्ष 30 करोड़ तथा केंद्र पोषित योजना में 82 करोड़ में से 57.3 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं। इस मौके पर पुलिस अधीक्षण पी रेणुका देवी के साथ ही समस्त जिलास्तरीय अधिकारी मौजूद थे।


महोदय, नहीं मिल रहे हैं ठेकेदार
गोपेश्वर। प्रभारी मंत्री प्रीतम पंवार ने आगामी वर्ष आयोजित होने वाली श्री नंदा देवी राजजात पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। लोनिवि के अधीक्षण अभियंता मदन सिंह ह्यांकी ने कहा कि उन्हें राजजात यात्रा मार्ग पर कार्य करने के टेंडर प्राप्त नहीं हो पा रहे हैं। जिससे कार्य करने में विलंब हो रहा है। कहा कि ठेकेदारों की कमी के चलते भी कार्य लटके पड़े हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए हुए बंद

बद्रीनाथ में बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए बंद हो गए। यहां हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाके में भी देखने को मिला। इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है।

19 नवंबर 2017