बर्त्वाल की अंत्येष्टि में उमड़ा जन सैलाब

Chamoli Updated Sun, 28 Oct 2012 12:00 PM IST
गोपेश्वर/कर्णप्रयाग। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सत्येंद्र बर्त्वाल के अंतिम संस्कार में शनिवार को अलकनंदा नदी के किनारे जन सैलाब उमड़ पड़ा। चमोली और रुद्रप्रयाग जनपदों से कांग्रेस नेताओं और स्थानीय लोगों ने उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी।
यहां डिग्री कालेज रोड पर स्थित उनके निवास से शवयात्रा शुरू हुई। चमोली में अलकनंदा नदी के तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनके ज्येष्ठ पुत्र योगेंद्र बर्त्वाल ने चिता को मुखाग्नि दी। बदरी-केदार के पूर्व विधायक कुंवर सिंह नेगी, केदार सिंह फोनिया, कांग्रेस कमेटी रुद्रप्रयाग के अध्यक्ष विनोद भट्ट, हरि सिंह रावत, सत्येंद्र बर्त्वाल, मुकेश नेगी, यूकेडी के केंद्रीय प्रवक्ता सतीश सेमवाल, पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष नंदन टकोला, ब्लॉक प्रमुख भगत सिंह बिष्ट, देवेंद्र बर्त्वाल, धीरेंद्र गरोडिया, सुशील रावत आदि ने स्व. बर्त्वाल को श्रद्धांजलि दी। वहीं, गोपेश्वर के सामाजिक कार्यकर्ता सूबेदार मदन सिंह रावत के निधन पर साहित्यकारों ने शोक प्रकट किया है।
दूसरी तरफ, ब्लाक कांग्रेस कार्यालय में कर्णप्रयाग ब्लाक अध्यक्ष गब्बर सिंह नेगी, नगर अध्यक्ष हरीश सती, जिला प्रवक्ता ईश्वरी मैखुरी, विधायक प्रतिनिधि गजपाल सोनी, महेश खंडूरी, विनोद डिमरी, बीएस भंडारी, भुवन नौटियाल, दिनेश थपलियाल, हरेन्द्र बिष्ट, भरत सिंह रावत आदि ने बर्त्वाल के निधन पर शोक व्यक्त किया है। बर्त्वाल के निधन पर रक्षा मोर्चा के जिलाध्यक्ष राजेन्द्र सगोई ने भी शोक व्यक्त किया है। दूसरी ओर मां चंडिका इंटर कालेज कांडा-मैखुरा के पीटीए अध्यक्ष दिनेश डिमरी की अकाल मौत पर विद्यालय प्रबंधक रमेश मैखुरी, जीतेंद्र कुमार आदि ने शोक व्यक्त किया है।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए हुए बंद

बद्रीनाथ में बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए बंद हो गए। यहां हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाके में भी देखने को मिला। इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है।

19 नवंबर 2017