काश्तकारों पर आफत बनकर टूटी बारिश

Chamoli Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
गोपेश्वर। दूरस्थ गांवों के काश्तकारों पर इस बार बारिश आफत बनकर टूटी। जनपद के सलूड़ डुंग्र्रा, तपोवन, बड़ागांव, रैंणी, उर्गम, पगनों, मेरग, करछी, तुगासी, पाणा, ईराणी, झींझी आदि गांवों के ग्रामीण राजमा, आलू, प्याज और लहसुन की फसल से ही वर्षभर का गुजारा करते हैं लेकिन इस बार भारी बारिश से अधिकांश गांवों में आलू खेतों में ही सड़ गए हैं।
ग्रामीण बताते हैें कि राजमा की बेलें भी मुरझा गई हैं। अगर कहीं आलू की पैदावार अच्छी हुई भी, तो सड़क और पैदल रास्तों के अवरुद्ध होने से उसे बेचने के लिए बाजार नहीं ले जा पा रहे हैं। नतीजतन आलू घरों में ही सड़ रहा है। काश्तकार हरीश भंडारी, राजे सिंह और कमल सिंह का कहना है कि इस बार आलू की पैदावार बहुत कम हुई है। खेत जलमग्न हो गए, जिससे आलू सड़ रहे हैं। गत वर्ष आलू बाजार में 16 सौ रुपये कुंतल बिका, लेकिन इस बार सड़क और पैदल रास्ते अवरुद्ध पडे़ हुए हैं जिससे विपणन की उचित व्यवस्था नहीं हो सकी।

Spotlight

Most Read

Rohtak

सीएम को भेजा पत्र

सीएम को भेजा पत्र

23 जनवरी 2018

Rohtak

एमटीएफसी

23 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए हुए बंद

बद्रीनाथ में बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए बंद हो गए। यहां हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाके में भी देखने को मिला। इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है।

19 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper