हर तरफ आपदा छोड़ गई तबाही के निशां

Chamoli Updated Sun, 19 Aug 2012 12:00 PM IST
नारायणबगड़/कर्णप्रयाग। शुक्रवार दोपहर बाद कहर बरपाती आपदा के बाद शनिवार की सुबह नारायणबगड़, सिलोड़ी गांव एवं कर्णप्रयाग-ग्वालदम मोटर मार्ग पर प्रभावित स्थानों का दृश्य तबाही को बयां कर रहा था लेकिन बीआरओ गौचर के अथक प्रयासों से तड़के ही यातायात बहाल हो गया।
घर के आंगन में पड़ी दरारें तथा गांव के समीप नीचे बहे खेतों से दरकी मिट्टी, दुकानों के अंदर भरा मलबा, कीचड़ से भरे पैदल रास्ते और कर्णप्रयाग-ग्वालदम मोटर मार्ग पर सड़क किनारे बड़े-बड़े बोल्डर आपदा की तबाही के निशां हैं। आसमानी कहर ने बर्बादी का जो तांडव खेला उसने क्षेत्र के परिदृश्य को काफी हद तक बदल दिया है। नारायणबगड़ में आधा दर्जन से अधिक दुकानों में मलबा घुसने से जहां दुकानों में रखा सामान खराब हो गया है। वहीं क्षेत्र के सिलोड़ी गांव के ग्रामीण शुक्रवार रात्रि को सो नहीं पाए। ग्रामीण श्रीधर प्रसाद, ललिता प्रसाद, रामानंद, सतेश्वरी देवी, बसंती देवी आदि ने बताया कि बीते वर्ष गांव के ठीक नीचे से भूस्खलन हुआ था और इस बार गांव के ऊपर पहाड़ी हो रहे भूस्खलन से गांव को दो-तरफा खतरा हो गया है।
ग्राम प्रधान नवीन सिलोड़ी ने बताया कि गांव में 10 से 15 आवासीय मकानों को सबसे अधिक खतरा बना हुआ है। जबकि गांव के प्राथमिक विद्यालय को भी काफी क्षति पहुंची है। शनिवार को क्षेत्रीय पटवारी रघुवीर लाल ने गांव में आपदा से हुए नुकसान का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि गांव के प्राथमिक विद्यालय के दो कमरों में मलबा घुसा हुआ है।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए हुए बंद

बद्रीनाथ में बर्फबारी के बीच बद्रीनाथ के कपाट छह महीने के लिए बंद हो गए। यहां हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाके में भी देखने को मिला। इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है।

19 नवंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper