कपकोट नगर पंचायत का पहला चुनाव

Bageshwar Updated Sun, 11 Nov 2012 12:00 PM IST
बागेश्वर। त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों की निर्वाचक नामावलियों के विस्तृत पुनरीक्षण और मतदाताओं के पंजीकरण के लिए जिलाधिकारी, जिला निर्वाचन अधिकारी ने विकास खंड स्तर पर एसडीएम, तहसीलदार और बीडीओ को जिम्मेदारियां सौंप दी हैं। जिले की नगर निकायाें की नामावलियां 6 फरवरी तक आम लोगाें को उपलब्ध करा देने का लक्ष्य रखा गया।
डीएम डा. वी षणमुगम ने बताया कि मुख्य विकास अधिकारी को जिले के बागेश्वर, कपकोट और गरुड़ विकास खंड का निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी नियुक्त किया गया है। तीनों विकास खंडाें में वहां के एसडीएम को सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी, तहसीलदार को अतिरिक्त सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी तथा खंड विकास अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। कांडा के तहसीलदार को बागेश्वर और कपकोट ब्लाक अतिरिक्त सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी का दायित्व सौंपा गया है। निर्वाचक अधिकारियों को पंचायती चुनाव के लिए मतदाताओं के पंजीकरण और मतदाता सूचियों के निर्माण का कार्य दिया गया है। एक अन्य विज्ञप्ति में जिलाधिकारी ने बताया है कि निकट भविष्य में बागेश्वर नगरपालिका परिषद और नवगठित कपकोट नगर पंचायत के भी चुनाव होने हैं। नगर निकाय चुनाव के लिए संगणकों, पर्यवेक्षकों और पंजीकरण अधिकारियाें की नियुक्ति 12 से 23 नवंबर तक, कार्यक्षेत्र आवंटन 26 नवंबर तक, कर्मचारियाें का प्रशिक्षण 27 से 30 नवंबर तक, गणना और सर्वेक्षण कार्य 15 दिसंबर तक, नामावली की पांडुलिपि का कार्य 22 दिसंबर तक, निर्वाचक नामावलियों का मुद्रण अगले साल 11 जनवरी तक, निरीक्षण 18 जनवरी तक, आपत्तियों का आमंत्रण 25 जनवरी तक, निस्तारण 31 जनवरी तक, पूरक सूचियों का मुद्रण 5 फरवरी तक, अंतिम और संपूर्ण प्रकाशन 16 फरवरी तक हो जाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बेकाबू होकर फैलती जा रही है बागेश्वर के जंगलों में लगी आग

उत्तराखंड के बागेश्वर में पिछले हफ्ते जगलों में लगी आग अबतक काबू में नहीं आई है। बेकाबू होकर फैल रही जंगल की आग की जद में आसपास के कई गांव आ गए हैं।

19 जनवरी 2018