मानवीय दखल से हस्तिनापुर सेंचुरी हो रही सूनी

Jyotiba phule nagar Updated Tue, 04 Sep 2012 12:00 PM IST
अमरोहा। वन्य क्षेत्र में दिन प्रतिदिन बढ़ते मानवीय दखल से भोले-भाले जानवर अमरोहा की धरती को अब अलविदा कहने को मजबूर है या शिकारियों गोलियों का शिकार हो गए। तीन वर्ष के आंकड़ों पर गौर फरमाए तो जंगली सुअर, नीलगाय व हिरन की संख्या में करीब बीस फीसदी कम हुई है। इनमें कई जीव क्रूर शिकारियों के हाथों जान गंवा बैठे, तो कई फायरिंग की दहशत से सुरक्षित ठिकानों की तलाश में भाग खड़े हुए। अलबत्ता, इतना जरूर है कि मानव की हरकतों को ठेंगा दिखाते हुए सेंचुरी में शरारती व नकलची बंदरों का कुनबा जरूर बढ़ रहा है।
वन्य जीवों की गणना के मुताबिक अमरोहा में 4063 नीलगाय, 109 जंगली सुअर, 66 हिरन व 4 हजार 129 बंदर है। जबकि इससे पूर्व की गणना में 5085 नीलगाय, 120 जंगली सुअर, 70 हिरन व 3050 बंदरों के आंकड़े दर्ज थे। जिले के कुल वन्य क्षेत्र में एक भी मांसभक्षी वन्य पशु मसलन शेर, चीता, गुलदार आदि नहीं हैं। फिर सीधे-साधे पशुओं की संख्या घटने की वजह क्या रही? अफसरों का जवाब है-मानवीय दखल।
अफसर कहते है कि दिन ब दिन वन्य क्षेत्र में मानवीय दखलंदाजी बढ़ती जा रही है। हरे-भरे पेड़ों पर कुल्हाड़ी चलाई जा रही है। वन क्षेत्र की भूमि पर गुप-चुप तरीके से अवैध कब्जे किए जा रहे हैं। नीलगाय, हिरन व सुअर का शिकार किया जा रहा है। चूंकि, वन विभाग के पास पर्याप्त फोर्स व संसाधन नहीं हैं, दूसरी और घने जंगलों की निगरानी इतनी आसान भी नहीं हैं, लिहाजा शिकारी इसका फायदा उठा रहे हैं। कई मर्तबा तो भोले-भाले जानवर खौफ के चलते आबादी के नजदीक पहुंच जाते हैं। ऐसे में शिकारियों की बंदूकें इन पर गरज उठती हैं। कई जानवर इससे भयभीत होकर सुरक्षित ठिकानों की ओर भाग रहे हैं। हां, बंदरों के कुनबे में जरूर वृद्धि हुई है।

शिकारी मांस के लिए नीलगाय, जंगली सुअर व हिरन का शिकार करते हैं। हालांकि, इनकी रक्षा के लिए वन्य क्षेत्र में गश्त रहती है, पर तमाम बार ये पशु गांव या आसपास के जंगल में पहुंच जाते हैं। लिहाजा शिकारी आसानी से गोली का शिकार बना लेते हैं।
अनुज कुमार सक्सेना वनाधिकारी

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

अब मस्जिदें भी भगवा रंग में रंगी नजर आएंगी: आजम खान

हज हाउस की दीवारों को भगवा रंग से पेंट कराए जाने पर समाजवादी पार्टी ने सूबे की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है।

6 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper