सगा भाई ही निकला अरुण का हत्यारा

Amroha Updated Tue, 18 Dec 2012 05:30 AM IST
अमरोहा। बान नदी में मिली अरुण की लाश उसके सगे भाई ने ही गंड़ासे से काटकर फेंकी थी। साथ देने पर हिस्ट्रीशीटर दोस्त से मकान का सौदा भी किया था। दरअसल, भाई के खून से हाथ रंगने का मकसद 36 बीघा जमीन थी। दो साथियों समेत पुलिस के सामने सनसनीखेज खुलासा कर खुद भाई ने किया। पुलिस चौथे शख्स की तलाश में जुटी है।
बताते चलें कि 11 दिसंबर को अमरोहा देहात पुलिस ने बुढ़ेरना के जंगल में बान नदी से मंडी धनौरा के जसौरा गांव निवासी हरशरण शर्मा के पुत्र अरुण उर्फ छोटे का शव बरामद किया था। मामले के खुलासे को एसपी दीपिका गर्ग द्वारा थानाध्यक्ष उपेंद्र यादव के नेतृत्व में गठित टीम गठित की थी। मृतक के बड़े भाई अमित पर शिकंजा कसा तो वह टूट गया। पूरी कहानी से प्याज के छिलकों की तरह खुल गई।
बकौल पुलिस अमित ने हाल ही में सवा पांच लाख में बिके मकान व 36 बीघा जमीन कब्जाने के इरादे से पेशी पर आए अरुण को बहानेे से बाईपास स्थित रोहताश पुत्र हरपाल सिंह ग्राम फलौदा पाकबाड़ा के घर बुलवा लिया। प्लानिंग के तहत तेजपाल पुत्र दीप सिंह जाट निवासी पोटा थाना छजलैट और शैतान सिंह पुत्र दर्शन सिंह निवासी हीरा सिंह बल्दाना रजबपुर के साथ अरुण को नशीली गोलियां मिली शराब पिला दी और मोटर साइकिलों से बान नदी ले गए।
पुलिस के मुताबिक शैतान सिंह ने कनपटी से तमंचा सटाकर गोली मारी। जबकि भाई अमित ने उसे गंड़ासे से काट डाला। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त दोनों बाइक, गंड़ासा बरामद कर अमित, तेजपाल व रोहताश को जेल भेज दिया। एसओ यादव के अनुसार हिस्ट्रीशीटर शैतान सिंह की तलाश जारी है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अब मस्जिदें भी भगवा रंग में रंगी नजर आएंगी: आजम खान

हज हाउस की दीवारों को भगवा रंग से पेंट कराए जाने पर समाजवादी पार्टी ने सूबे की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है।

6 जनवरी 2018