तेंदुए ने चौनली की पूर्व प्रधान को मार डाला

Almora Updated Thu, 15 Nov 2012 12:00 PM IST
अल्मोड़ा। उच्यूर पट्टी के गांवों में तेंदुए का आतंक थम नहीं रहा है। तेंदुए ने दीपावली की शाम मल्ला चौनली गांव की पूर्व प्रधान कमला बिष्ट को घर के निकट खेत में मार डाला। वह खेत में घास काट रही थीं। इस घटना से गांव में कोहराम मच गया। राजस्व पुलिस ने मंगलवार को महिला का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया है। एक माह के भीतर तेंदुए इस क्षेत्र की चार महिलाओं को शिकार बना चुके हैं और तीन महिलाएं घायल हुई हैं। आदमखोर की दहशत से ग्रामीणों का दिन में भी घरों से निकला मुश्किल हो गया है। तेंदुए को पकड़ने के लिए गांव के पास पिंजरा लगा दिया गया है। साथ ही एहतियात के तौर पर शिकारी जॉय ह्वीकल को भी तैनात किया गया है और तेंदुए को मारने की अनुमति मिलने का इंतजार किया जा रहा है।
लमगड़ा ब्लॉक के मल्ली चौनली गांव के स्वाला-धनखोली तोक निवासी पूर्व प्रधान कमला बिष्ट (55) पत्नी त्रिलोक सिंह मंगलवार को घर के पास ही कुछ दूर खेत में घास काट रही थीं। करीब 4.30 बजे तेंदुए ने उस पर हमला कर दिया। चीख पुकार सुन कर परिजन और अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे। तेंदुआ वहां से भाग निकला। तेेंदुए ने कमला बिष्ट के गले और गर्दन को बुरी तरह फाड़ डाला और उनकी मौके पर ही मौत हो गई। खबर मिलते ही स्वाल-धनखोली समेत उच्यूर पट्टी के गांवों में शोक छा गया। उप प्रभागीय वनाधिकारी एमके बहुखंडी, राजस्व निरीक्षक प्रयाग दत्त सनवाल आदि मौके पर पहुंचे। परिजनों की सहमति पर मारी गई महिला का शव रात भर मौके पर ही रहने दिया ताकि आदमखोर दोबारा पहुंचने पर मारा जा सके लेकिन तेंदुआ वहां नहीं आया। राजस्व पुलिस ने बुधवार को पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया है। दोपहर बाद पूर्व प्रधान कमला का विश्वनाथ शमशान घाट में अंतिम संस्कार हुआ।

उच्यूर पट्टी में थम नहीं रहीं घटनाएं
अल्मोड़ा। उच्यूर पट्टी में तेंदुओं द्वारा महिलाओं को मारे जाने की घटनाएं रुक नहीं रही हैं। तेंदुए एक माह के भीतर मल्ली चौनली की प्रधान, सिल्खोड़ा की उप प्रधान समेत चार महिलाओं को मार चुके हैं। तेंदुओं ने 13 अक्तूबर को हुनां गांव की हीरा देवी को, 15 अक्तूबर को चौनली की पार्वती देवी, 22 अक्तूबर को सिलखोड़ा की उप प्रधान शीला बिष्ट और अब 13 नवंबर को स्वाल-धनखोली की पूर्व प्रधान कमला बिष्ट को मार चुके हैं। तेंदुओं के हमले में सात वर्षीय बालिका समेत तीन महिलाएं भी घायल हुई हैं। 23 अक्तूबर को पलना गांव की सात वर्षीय काजल, चार नवंबर को खेर्दा गांव की सुशीला बोरा, आठ नवंबर को भैंसवाड़ा गांव की कलावती तेंदुओं के हमले में घायल हुई लेकिन बाल-बाल बच गई।

सीमित दायरे में कहां से आ पहुंचे इतने गुलदार?
अल्मोड़ा। लमगड़ा ब्लाक के गांवों में तेंदुओं द्वारा लगातार किए जा रहे हमलों से वन विभाग भी परेशान है। आम तौर पर माना जाता है कि एक बड़े वन क्षेत्र में एकाध गुलदार रहता है लेकिन इस छोटे से क्षेत्र में एक माह के भीतर दो आदमखोर मार गिराए हैं और एक को पिंजरे में पकड़ा गया है लेकिन अब भी उच्यूर पट्टी के हुंना, चौनली, खेर्दा, पलना, सिलखोड़ा, भैंसवाड़ा, अनरियाकोट, जसकोट आदि गांवों में तेंदुए दिखाई दे रहे हैं। विभागीय अधिकारियों को भी समझ नहीं आ रहा है कि सीमित क्षेत्र में इतने अधिक गुलदार आखिर कहां से आ पहुंचे हैं। एसडीओ एमके बहुखंडी ने कहा कि इसी इलाके में एक-दो से अधिक गुलदारों का पाया जाना वास्तव में चिंता और चुनौती जनक है।

तीन पिंजरे लगाए, वन कर्मी तैनात
अल्मोड़ा। वन विभाग ने तेंदुए को पकड़ने के लिए प्रभावित गांवों में तीन पिंजरे लगा दिए हैं। एसडीओ एमके बहुखंडी के मुताबिक स्वाल-धनखोली गांव में आज पिंजरा लगा दिया गया है। भैंसवाड़ा तथा ढौरा क्षेत्र में भी पहले ही एक-एक पिंजरे लगा रखे हैं। उन्होंने बताया कि गांवों में वन कर्मियों के तीन गश्ती दलों को गश्त पर लगाया गया है। अभी तक वन्य जीव प्रतिपालक से तेंदुए को मारने की अनुमति नहीं मिली है।

बढ़ रहा है ग्रामीणों में आक्रोश
अल्मोड़ा। तेंदुओं द्वारा किए जा रहे हमलों तथा जनहानि ग्रामीणों में आक्रोश भी बढ़ता जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि वन संपदा तथा वन्य जीव कानूनन वन विभाग अपनी संपत्ति बताता हैं लेकिन मुआवजा दे देने भर से विभाग जिम्मेदारी से मुक्त नहीं हो जाता। आगे और घटनाएं नहीं हों इसके लिए कारगर कदम उठाए जाने चाहिए। जगदीश सिंह बोरा, केदार दत्त जोशी, लीलाधर, चंदन सिंह, हरीश चंद्र आदि ने वन विभाग के रवैये पर नाराजगी जताई। ग्रामीणों ने मुआवजा बढ़ाकर पांच लाख रुपये तथा प्रभावित परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की है।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

बॉर्डर पर तनाव का पंजाब में दिखा असर, लोगों में दहशत, BSF ने बढ़ाई गश्त

बॉर्डर पर भारत और पाकिस्तान में हो रही गोलीबारी का असर पंजाब में देखने को मिल रहा है, जहां लोगों में दहशत फैली हुई है। बीएसएफ ने भी गश्त बढ़ा दी है।

21 जनवरी 2018

Related Videos

अमित शाह के इस बयान पर उत्तराखंड कांग्रेस हुई हमलावर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राहुल गांधी पर की गई टिप्पणी के बाद उत्तराखंड कांग्रेस आग-बबूला हो गई है।

21 सितंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper