उदेपुर गोलू मंदिर में भी नहीं हुई पशु बलि

Almora Updated Sun, 21 Oct 2012 12:00 PM IST
द्वाराहाट। प्रशासन और उदेपुर गोलू देवता मंदिर समिति की पहल रंग लाई है। यहां उदेपुर स्थित गोलू देवता मंदिर में प्रत्येक नवरात्र में पशुओं की बलि दी जाती थी लेकिन इस बार यह क्रम टूट गया है। लोगों ने पशुओं की बलि के स्थान पर मंदिर में नारियल और ककड़ी चढ़ाई तथा सुखमय जीवन की कामना की। विंता निवासी पूर्व सूबेदार ललित नेगी ने बताया कि बलि प्रथा बंद करने के लिए समिति ने भी पर्चा पोस्टरों के माध्यम से जनजागरण कार्यक्रम चलाया था, प्रशासन की तरफ से भी पूरा सहयोग मिला। उन्होंने बताया कि नवरात्रियां शांतिपूर्ण ढंग से चल रही हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अमित शाह के इस बयान पर उत्तराखंड कांग्रेस हुई हमलावर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राहुल गांधी पर की गई टिप्पणी के बाद उत्तराखंड कांग्रेस आग-बबूला हो गई है।

21 सितंबर 2017