बागियों की वापसी का होगा विरोध

Almora Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
अल्मोड़ा। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल के सामने शुक्रवार को पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में बागियों की वापसी संबंधी खबरों पर कड़ा विरोध जताया। उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष से साफ कह दिया कि बागियों को अगर पार्टी में दोबारा लिया गया तो इसका कतई समर्थन नहीं किया जाएगा। प्रदेश अध्यक्ष ने फिलहाल ऐसी किसी भी संभावना से इंकार किया। उन्होंने कहा कि किसी भी निर्णय में कार्यकर्ताओं का सम्मान किया जाएगा।
प्रदेश अध्यक्ष हल्द्वानी वापसी के दौरान कुछ देर के लिए अल्मोड़ा में रुके। करीब दस मिनट तक प्रदेश अध्यक्ष की कार्यकर्ताओं से बात हुई। कार्यकर्ताओं का कहना था कि प्रदेश अध्यक्ष के हवाले से पिछले दिनों बागियों को पार्टी में लिए जाने संबंधी बातें सामने आई थीं। जिला संयोजक ललित लटवाल ने कहा कि 2012 के विधानसभा चुनावों में जिन लोगों ने भितरघात किया था, उनके लिए पार्टी में कोई स्थान नहीं होना चाहिए। ऐसे व्यक्तियों का कड़ा विरोध किया जाएगा। प्रदेश अध्यक्ष चुफाल ने कहा कि फिलहाल ऐसे लोगों को पार्टी में लेने की कोई बात नहीं है। उनका कहना था कि ऐसी स्थिति में कार्यकर्ताओं की भावनाओं का पूरा सम्मान किया जाएगा। उनसे मिलने वालों में पूर्व विधायक रघुनाथ सिंह चौहान, गोविंद पिलख्वाल, गंगा बिष्ट, लता बोरा, अजीत कार्की, अमिता जीना, राजीव गुरुरानी, रवि रौतेला, कैलाश गुरुरानी, संजय अग्रवाल, एसएस पाटनी, अजय वर्मा, खजान मिश्रा, धमेंद्र बिष्ट, मोतीलाल वर्मा, नरेंद्र मोहन तिवारी, नंदन मेहता, अंकुर कांडपाल, कमल बिष्ट, वैभव कांडपाल, कृष्णा कांडपाल, संजय कनवाल, जगत कनवाल, मनोज वर्मा, डा. एनएस भंडारी, सज्जन लाल, दर्शन रावत, नर्मदा तिवारी, राजेंद्र बिष्ट, भुवन कुमार राठौर, बहादुर कनवाल, किशन बिष्ट आदि शामिल थे।


पदाधिकारी नहीं चाहते कोई वापस हो
अल्मोड़ा। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश इकाई में इन दिनों बागियों की वापसी को लेकर चल रही राजनीति पार्टी नेताओं के लिए न निगले, न उगले बने की स्थिति पैदा कर रही है। एक तरफ ऐसे बागी हैं जिनका अपना खासा वजूद है और पार्टी को भी जिनकी जरूरत। उनके सामने ऐसे विरोधी हैं जिन्हें बागियों को आता देख अपना वजूद गड़बड़ाता दिख रहा है। विधानसभा चुनावों में बागियों ने भाजपा का गणित जिस तरह से गड़बड़ाया है उससे हाईकमान उनकी अहमियत तो समझ रहा है मगर वर्तमान पदाधिकारियों का विरोध उसकी मुसीबत बना हुआ है।
जिन बागियों को निकाला गया उन्होंने विधानसभा चुनावों में निर्दलीय चुनाव लड़कर पार्टी को अपनी ताकत दिखा भी दी थी। अल्मोड़ा में पूर्व विधायक कैलाश शर्मा ने पार्टी टिकट न मिलने के बाद निर्दलीय चुनाव लड़ा और व्यक्तिगत छवि के आधार पर 6582 वोट लाए। भाजपा दूसरे नंबर पर रही और जीत का अंतर था केवल 1181। बागियों के साथ जाने वाले पदाधिकारी भी खासे संख्या में थे जिन्हें भाजपा संगठन ने बाद में बाहर का रास्ता दिखाया। प्रदेश में कई स्थानों पर ऐसे ही बागियों की बदौलत भाजपा के हाथों में सत्ता आते-आते रह गई। भाजपा हाईकमान के सामने अब 2014 मेें लोक सभा चुनाव दिख रहा है। इसीलिए वह प्रदेश में कई बड़े बागी नेताओं के संपर्क में है। देहरादून में मुन्ना सिंह चौहान के आने की चर्चा है तो और भी कई ऐसे लोग लाइन में हैं। भाजपा ही अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि बागियों की वापसी उन क्षेत्रों में अपना वजूद तलाश रहे लोगों के लिए मुसीबत बन रही है।

Recommended

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश: बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी को महज 7 घंटे में सजा

मध्य प्रदेश में उज्जैन के जुवेनाइल कोर्ट ने बच्ची से दुष्कर्म के एक मामले में जबरदस्त तेजी दिखाते हुए महज 7 घंटे में आरोपी को दोषी ठहराते हुए सजा सुना दी। जस्टिस तृप्ति पांडे ने सोमवार को दोषी को दो साल कैद की सजा सुनाई।

22 अगस्त 2018

Related Videos

कैलाश मानसरोवर यात्रा पूरी कर लौटे पहले जत्थे ने इसलिए जताई नाराजगी

कैलाश मानसरोवर यात्रा का पहला दल शनिवार को अपनी यात्रा पूरी कर अल्मोड़ा पहुंचा।

30 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree