सड़क पर नहीं निकलेंगे जुलूस, इमामबाड़ों में होगी मजलिस

Varanasi Bureau वाराणसी ब्यूरो
Updated Mon, 09 Aug 2021 01:47 AM IST
Procession will not go out on the road, there will be Majlis in Imambaras
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मोहर्रम में ताजियादारी का आयोजन कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार ही किया जाएगा। ताजियों को घराें के इमामबाड़ों में स्थापित तो किया जाएगा, लेकिन कर्बला तक ले जाने के लिए जुलूस नहीं उठाया जाएगा। ताजियों पर चढ़ाए गए फूल ही कर्बला ले जाकर दफन किए जाएंगे। यह जानकारी मुफ्ती ए शहर मौलाना अब्दुल बातिन नोमानी, मौलाना हारून नक्शबंदी व हाजी फरमान हैदर ने संयुक्त प्रेसवार्ता में दी।
विज्ञापन

पराड़कर भवन में रविवार को हुई प्रेसवार्ता में मुफ्ती ए शहर ने कहा कि इमाम हुसैन की शहादत के सिलसिले से मनाया जाने वाला मोहर्रम चांद दिखने के बाद नौ या 10 अगस्त से शुरू होकर 20 अगस्त तक कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार मनाया जाएगा। इस दौरान सड़कों पर मोहर्रम के जुलूस नहीं निकलेंगे। घरों और इमामबाड़ों में ही मजलिसों के आयोजन किए जाएंगे। प्रतीकात्मक स्वरूप ताजियादी होगी और लोग इसका दीदार कर सकेंगे। मौलाना हारुन नक्शबंदी ने कहा कि माहौल को खराब करने की मंशा रखने वाले समाज के दुश्मनों पर प्रशासन को कड़ी निगरानी रखनी होगी। शिया जामा मस्जिद के प्रवक्ता हाजी फरमान हैदर ने बताया कि मोहर्रम तो दो महीना आठ दिन मनाया जाता है, लेकिन एक मोहर्रम से 12 मोहर्रम तक बहुत शिद्दत के साथ मनाया जाता है। मौलाना बशीर ने कहा के हमें प्रशासन की शब्दावली से बड़ी ठेस पहुंची है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00