बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

फ्लैग- अमर उजाला, एसआरएम युनिवर्सिटी की कार्यशाला में दिए इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के टिप्स

Varanasi Updated Wed, 13 Feb 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
तुम अपनी करनी कर गुजरो, जो होगा देखा जाएगा
विज्ञापन

वाराणसी। ‘तुम अपनी करनी कर गुजरो, जो होगा देखा जाएगा।’ इंडियन इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी में प्रवेश की तैयारी करने वालों को शायर फैज अहमद फैज की इन पंक्तियों को घोष वाक्य बनाने को कहा गया। अमर उजाला और एसआरएम युनिवर्सिटी की ओर से महमूरगंज स्थित कैटजी में मंगलवार को आयोजित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा कार्यशाला में छात्र-छात्राओं को सफलता के टिप्स दिए गए। विशेषज्ञों ने कहा कि प्रवेश परीक्षा में कुछ ही दिन बाकी हैं। ऐसे में घबराने और डरने से काम नहीं चलेगा। इस बात का निरंतर स्मरण रखना होगा कि परीक्षा के समय सर्वश्रेष्ठ देना है।
कार्यक्रम का उद्घाटन कैटजी के निदेशक प्रतीक उपाध्याय ने किया। उन्होंने कहा कि फोकस होकर पढ़ाई करके प्रवेश परीक्षा को पास किया जा सकता है। शिक्षक प्रभाशंकर पांडेय ने बताया कि परीक्षा का भय स्वाभाविक है लेकिन उसे अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए। परीक्षा नजदीक है, इसलिए रिवीजन पर ज्यादा ध्यान दें। अध्यापक विवेक सिंह ने कहा कि प्रवेश परीक्षा, बोर्ड परीक्षा सब सामने हैं। ऐसे में जो परीक्षा पहले हो उस पर ध्यान दीजिए। जो अध्याय पढ़ते हो, उसकी उपयोगिता समझिए। आईआईटी की मुख्य परीक्षा में फामूर्लों पर आधारित सीधे सवाल पूछे जाते हैं जबकि आईआईटी एडवांस में विषय की गहराई में जाने वाले प्रश्न होंगे। पहले बोर्ड, उसके बाद मुख्य परीक्षा और फिर एडवांस पर ध्यान दीजिए। सभी विषयों को बराबर तरजीह देना जरूरी है। तैयारी करते समय अपने साथ के लोगों से यदि डिस्कस किया जाए तो उसका भी फायदा मिलता है। बाद में विद्यार्थियों का एप्टीट्यूड टेस्ट कराया गया और सबको एसआरएम युनिवर्सिटी की प्रवेश परीक्षा के फार्म दिए गए।


बोले शिक्षक-

हर सवाल पर दो से ढाई मिनट का समय मिलता है। किसी प्रश्न पर ज्यादा समय खर्च करने का अर्थ है कि कई सवाल छूट जाएंगे। कुछ अध्यायों पर कमांड कीजिए और उसी से शुरुआत कीजिए। सवाल हल होने लगेंगे तो होते जाएंगे। -विवेक सिंह

माडल पेपर और पिछले साल के सवालों को हल करने का अभ्यास कीजिए। कम समय में रिवीजन करके पढ़े हुए विषयों को पुख्ता करना जरूरी है। प्रतिष्पर्धियों की बढ़ती संख्या से चिंतित होने की जरूरत नहीं है। अपने समय का पूरी तरह इस्तेमाल करने की कोशिश कीजिए। -प्रभाशंकर पांडेय
-------------
बोले विद्यार्थी-

कार्यशाला काफी फायदेमंद रही। जहां टाइम मैनेजमेंट का तरीका सीखने को मिला वहीं, यह भी बताया गया कि उलझाने वाले सवालों में नहीं फंसना चाहिए। जो सवाल आते हों उनको पहले करने की सीख दी गई। -ज्योति मौर्या, बनारस

कार्यशाला में इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के लिए उपयोगी टिप्स दिए गए। परीक्षा से घबराने से बचने और व्यवस्थित तरीके से तैयारी करने के तरीके बताए गए। यहां मिली सीख परीक्षा के लिए बेहद उपयोगी साबित होगा। -धनंजय, बलिया

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us