देश में युवा वैज्ञानिकाें की कमी

Varanasi Updated Fri, 30 Nov 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। शिक्षण संस्थानों को चाहिए कि वे अपने यहां समय-समय पर वैज्ञानिकों का सम्मेलन अथवा विशेष लेक्चर कराते रहें ताकि छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुझान बढ़े। उनमें वैज्ञानिक बनने की जिज्ञासा उत्पन्न हो। आम तौर पर देखा जा रहा है कि शिक्षण संस्थाओं और वैज्ञानिकों के बीच आपसी समन्वय न होने से देश में वैज्ञानिकों की अपेक्षित संख्या नहीं बढ़ पा रही है। ये विचार भारत के पूर्व सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री प्रो. एमजीके मेनन के हैं। वह गुरुवार को बीएचयू के स्वतंत्रता भवन में राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद की ओर से आयोजित तीन दिनी 82वें वार्षिक अधिवेशन में बोल रहे थे।
नैनो साइंस एंड टेक्नोलाजी फार मैनकाइंड विषयक अधिवेशन में उन्हाेंने कहा कि नैनो तकनीक पर निरंतर शोध चल रहा है। इसका सबसे अधिक लाभ चिकित्सा जगत को होगा। बीएचयू के कुलपति डा. लालजी सिंह ने नैनो साइंस और टेेक्नालाजी पर सेमिनार आयोजित करने के लिए आयोजकाें को धन्यवाद देते हुए कहा कि इसमें भाग लेने वाले विद्यार्थियों को काफी लाभ होगा। आईआईटी मुंबई के पूर्व निदेशक प्रो. अशोक मिश्र ने नैनो विज्ञान में पृष्ठ विज्ञान, कार्बनिक रसायन, आणविक जीव विज्ञान, सूक्ष्म संरचना विज्ञान आदि को शामिल करने की जानकारी दी। अकादमी के अध्यक्ष प्रो. एके शर्मा ने कहा कि नैनो प्रौद्योगिकी से बने पदार्थ चिकित्सा, सौर ऊर्जा उत्पादन, पेयजल से विषैले आर्सेनिक के निष्कासन और पर्यावरण में विद्यमान हानिकारक रसायनों से सुरक्षा में सहायक पाए गए हैं। आईआईटी कानपुर के प्रो. आशुतोष शर्मा ने नैनो स्तर पर पदार्थों के निर्माण में स्वत: संगठन की विशेषता, आईआईटी मुंबई के प्रो. वी. रामगोपाल राव ने स्वास्थ्य रक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा में उपयोगी कार्बनिक नैनो विद्युत यांत्रिक सेंसर के बारे में अनुसंधान के निष्कर्ष प्रस्तुत किए।
इनसेट-
पुरस्कृत किए गए चार वैज्ञानिक
वाराणसी। बीएचयू में आयोजित 82वें वार्षिक अधिवेशन में चार वैज्ञानिकाें को नासी-रिलायंस उद्योग प्लेटिनम जुबली पुरस्कार दिया गया। इनमें भौतिक विज्ञान क्षेत्र में महत्वपूर्ण अनुसंधान के लिए आईआईटी मुंबई के प्रो. अभय करंदीकर व आईआईटी कानपुर के प्रो. अविनाश अग्रवाल तथा जीवविज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण अनुसंधान के लिए आईआईसीटी हैदराबाद के डा. एमपी भद्रा व आरएलपीएल मुंबई की डा. दीपा घोष शामिल हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अलग अंदाज में मनाया गया BHU स्थापना दिवस, आप भी कर उठेंगे वाह-वाह

सोमवार को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 102वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस मौके पर पारंपरिक परिधान में सजे छात्र-छात्रों ने झांकियां निकाली। झांकियों के साथ चल रहे स्टूडेंट्स ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते नजर आए।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls