त्रिशूल की नोक पर झिलमिलाया स्वर्ग

Varanasi Updated Thu, 29 Nov 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। पश्चिम आकाश में सूरज विश्राम को लालायित था। वियुंमालि, तारकाक्ष, वीर्यवर्ण तीन असुरों (त्रिपुरासुर) के स्वर्ण, रजत, लौह दुर्गों के पीत, श्वेत, श्याम वर्ण के मिश्रण से बनी एक तांबई तश्तरी-सी आकृति पूरब में गंगा पार रेती से क्षितिज में उठने लगी। स्वर्ण से बने पाशुपत अस्त्र से एक तीर चला त्रिपुरासुर का किला ध्वस्त हो गया और शिव त्रिपुरारी बन गए। तांबई तश्तरी सुनहला चांद बन मुस्कुराने लगा। चांदनी गंगा से अटखेलियां करने लगी। दिल में उमंग उठी तो नौकाओं पर सवार नागरिकों ने गंगा को झिंझोड़ कर जगा दिया। आतिशबाजी शुरू हो गई। मीलों लंबे अर्ध चंद्राकार तट दीपों से झिलमिला उठा। अध्यात्म, आस्था, संगीत, सौंदर्य के मेल की माया के तिलिस्म में मोक्ष की नगरी में मौजूद हर कोई लीन हो गया।
मत्स्यावतार, त्रिपुरासुर वध, गुरुनानक जयंती, चातुर्मास का समापन कार्तिक पूर्णिमा की तिथि के कितने भी महत्व हों, लेकिन सबका मूल आस्था ही है। जैन श्रद्धालु मंदिरों में दर्शन करने गए। गुरुद्वारों में शबद-कीर्तन चलता रहा और गंगा में पवित्र स्नान। गंगा महाल घाट में राधा-कृष्ण और नीचे घाट पर बालाजी भगवान को मक्खन से वस्त्र, आभूषण पहनाए गए। सूर्योदय के साथ जगी अध्यात्म की प्यास से तृप्ति सूरज के अस्ताचल में पहुंचने तक नहीं हो पाई, तभी काशी त्रिपुरासुर के वध की खुशी में नाचने लगी। तालाब, कुंड, मंदिर, गंगा के तट सब दीपों से जगमग हो गए। पंचगंगा, दशाश्वमेध, शीतला घाट केदारघाट, अस्सी आदि घाटों पर आरती शुरू हो गई। दीपों से घाट जगमग हो गए। देवताओं के घर में देव दीपावली कैसी होती होगी, वहीं जानें लेकिन धरती की इस दीपावली को देखने का लोभ वे भी संवरण नहीं कर पाए होंगे। क्षेमेश्वर घाट को आंध्र प्रदेश के श्रद्धालुओं ने सुंदर रंगोली से सजाया और दीपों से जगमगा दिया। हैदराबाद की सृजनी ने कहा कि कार्तिक पूर्णिमा पर सजावट वहां भी होती है पर गंगा कहां से लाते। फूलों से सजे मानसरोवर घाट पर रूस की लायला ने बताया कि तीन साल पहले भी आईं थी लेकिन आश्चर्य गहरा ही हुआ। स्विट्जरलैंड के माइकल कैमरे में नजारा कैद करते रहे। टोकते ही उंगली होठों से लगाई और जोर से सीटी बजाई। देव दीपावली के नजारे को निरखने के लिए घाटों पर सैलाब उमड़ पड़ा। ढाई दशक में बना जनता का नया लक्खा मेला मुस्कुराया, मानो ‘अगले साल भी अईयो गंगा तीर’ का न्योता बांट रहा हो।

Spotlight

Most Read

Varanasi

बिरहा प्रतियोगिता के चयन पर उठ रहे सवाल

बिरहा प्रतियोगिता के चयन पर उठ रहे सवाल

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी के इस दरोगा ने दी पूरी कानून व्यवस्था को चुनौती

वाराणसी के चौक थाने में तैनात इंस्पेक्टर अशोक सिंह का यह वीडियो पूरे पुलिस महकमें पर सवाल खड़ा कर रहा है। पूरा मामला दालमंडी में अवैध बेसमेंट निर्माण के खुलासे से जुड़ा है। जहां अशोक सिंह पूरी कानून व्यवस्था को ही चुनौती देते दिख रहे है।

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper