बीएचयू के शोध छात्र पर मुकदमा दर्ज

Varanasi Updated Sun, 04 Nov 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। गत वर्ष दिसंबर में आयोजित यूजीसी नेट परीक्षा में सफल होने के बाद फर्जी प्रमाणपत्र देने के आरोप में बीएचयू के एक छात्र के खिलाफ लंका थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। इसकी शिकायत पर सेंट्रल काउंसिल फार इंडियन मेडिसिन (सीसीआईएम) ने जब जांच की तो मामला सही निकला। काउंसिल के मुख्य सतर्कता अधिकारी अरुण बरोका की तहरीर पर प्राथमिकी दर्ज की गई।
आरोप है कि आयुर्वेद संकाय में यूजीसी नेट परीक्षा के माध्यम से शोध के लिए चयनित छात्र योगेश कुमार सिंह ने बीएचयू में कागजात जमा करते समय कुछ फर्जी प्रमाण पत्राें को भी जमा कर दिया। इस आधार पर उसका प्रवेश तो हो गया लेकिन किसी ने इसकी शिकायत सीसीआईएम से कर दी। इसपर मामले की जांच शुरू हुई। छानबीन में कुछ फर्जी प्रमाण पत्र पाए जाने पर मुख्य सतर्कता अधिकारी अरुण बरोका ने छात्र पर मुकदमा दर्ज करने के लिए लंका थाने को दिल्ली से तहरीर भेज दी। इसके आधार पर पुलिस ने आरोपी छात्र के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। सूत्रों के मुताबिक छात्र के प्रवेश के निरस्तीकरण की कार्रवाई चल रही है। इस संबंध में आयुर्वेद संकाय के प्रमुख प्रो. सीबी झा ने बताया कि सीसीआईएम अपने स्तर से मामले की जांच कराती है। उक्त छात्र की विश्वविद्यालय स्तर पर किसी ने शिकायत नहीं की थी। कहा कि इस संबंध में यदि सीसीआईएम का निर्देश आएगा तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। छात्र पर मुकदमा कायम होने के बाद गत 30 अक्तूूबर से एक नवंबर तक पीएचडी के लिए हुए साक्षात्काराें में दिए गए कागजाताें की छानबीन अब गहराई से की जा रही है ताकि फिर कोई छात्र इस तरह फर्जीबाड़ा न कर दे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अलग अंदाज में मनाया गया BHU स्थापना दिवस, आप भी कर उठेंगे वाह-वाह

सोमवार को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 102वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस मौके पर पारंपरिक परिधान में सजे छात्र-छात्रों ने झांकियां निकाली। झांकियों के साथ चल रहे स्टूडेंट्स ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते नजर आए।

23 जनवरी 2018