बंशी की तान पर झूमा पंचगंगा का उन्मुक्त किनारा

Varanasi Updated Sun, 28 Oct 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। गंगा की जिन सीढि़यों पर कभी कबीर ने लेटकर संत रामानंद के पांवों के स्पर्श से गुरुज्ञान प्राप्त किया था, उसी पावन तट पर शनिवार की शाम तीन दिनी श्रीमठ संगीत महोत्सव के दीप जले तो चहुंदिशि आभा दमक उठी। सप्तक की यादगार समूह प्रस्तुति तो सिर चढ़कर बोली ही, रोनू मजूमदारकी बांसुरी और मालिनी अवस्थी की ठुमरी ने संगीत रसिकों के तन-मन में आनंद घोल दिया। कोजागरी(शरद पूर्णिमा) के उपलक्ष्य में यह कार्यक्रम किया गया। रामानंदाचार्य रामनरेशाचार्य के आशीर्वचन से संगीत निशा की शुरुआत हुई।
संगीत परिषद की सप्तक संस्था की प्रस्तुति राग वंसत में सरस्वती वंदना से हुई। उप शास्त्रीय गायिका सुचरिता गुप्ता अपनी कतारबद्ध 21 शिष्याओं के साथ मंच पर आईं तो करतल ध्वनि गूंजने लगी। मुझको नवल उत्थान दे मां शारदे.... के बाद उन्होंने राग भोपाली में रूपक पेश किया। बोल थे- संवरिया प्यारा रे मोरा गोइयां...। साथ देने वाली महिलाओं में कोई पेशे से डाक्टर थीं तो कोई गृहणी। राग कलावती में गंगा द्वारे बधइया बाजे के बोल पर गंगा पुजइया भी सराही गई। तबले पर ललित कुमार, सारंगी पर संतोष मिश्र, सितार पर पं. ध्रुवनाथ मिश्र ने संगत की। इनके बाद रोनू मजूमदार की बांसुरी खूब बजी। राग बेगेश्री में उन्होंने अलाप के बाद जोड़ झाला और तमाम टुकड़े पेश किए। झप ताल में गत बजाने के बाद उन्होंने तीन ताल में बंदिश और फिर भजन, कजरी पर आदारित धुनें प्रस्तुत की। तबले पर पं. किशोर मिश्र, बांसुरी पर साथ में विपुल बोरा संगत कर रहे थे। आखिरी प्रस्तुति थी उप शास्त्रीय गायिका मालिनी अवस्थी की। मालिनी ने राग खमाज में ठुमरी से अपनी छाप छोड़ी। बोल थे- छबि दिखला जा बांके सवंरिया...। राग मिश्र विहाग में ठुमरी -हमसे नजरिया काहे फेरी रे बालम...। दादरा राग कौशिक में पेश किया। बोल थे-श्याम तोहें नजरिया लगि जाएगी...। राग किरवानी में दूसरा दादरा था- पूरब देस से आई रे गोरिया...। मलिनी के ठुमरी-दादरा पर संगीत प्रेमी देर रात तक झूमते रहे। तबले पर पं. रत्नेश मिश्र, सारंगी पर पं. कन्हैया लाल मिश्र ने संगत की। इससे पहले बतौर मुख्य अतिथि सूबे के लोक निर्माण राज्यमंत्री सुरेंद्र पटेल, अमर उजाला के संपादक निशीथ जोशी, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष शुक्ला, इलाहाबाद के उप संभागीय खाद्यनियंत्रक ने दीप प्रज्जवलित किया। गीतकार हरिराम द्विवेदी, डॉ. राजेश्वर आचार्य समेत तमाम संगीत प्रेमी लोग उपस्थित थे। संचालन विपुल कृष्ण नागर ने किया। संयोजक रमनशंकर पंड्या और अमूल्य शर्मा का था।

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: वाराणसी में महिला की मौत पर बवाल, फूंका ट्रक

वाराणसी में ट्रक की चपेट में आई महिला की मौत हो गई। जिसके बाद इलाके के लोगों ने हाईवे जाम कर ट्रक को फूंक दिया है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों को शांत करा हाईवे से जाम हटवाया।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper