जगत जननी के स्तुतिगान में रात भर जागा शहर

Varanasi Updated Tue, 23 Oct 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। जगत जननी के स्तुतिगान में लीन शहर सोमवार को रात भर जागता रहा। महाअष्टमी को घरों से मंदिरों, मंडपों तक पूजा विधान में जुटे भक्त सांझ ढलते के साथ ही पंडालों की ओर चल पड़ तो सड़कों पर रफ्तार थम सी गई। साज-सज्जा की छटा निहारने और देवी की झांकियों के दर्शन करने के लिए महिलाएं-बच्चे ही नहीं युवाओं से लेकर बुजुर्ग तक एक से दूसरे पंडालों तक एक दूसरे का हाथ थामे बढ़ते रहे।
दुर्गा पूजा देखने के लिए वाहनों से निकले लोगों को तिराहों, चौराहों से पैदल आगे बढ़ना पड़ा। मैदागिन, लहुराबीर, जगतगंज, चेतगंज, बेनियाबाग जैसे इलाकों में आड़े-तिरछे वाहनों के खड़े होने से पैदल चलना भी दुश्वार हो गया था। रात आठ बजे तक तो लोग आसानी से पंडालों तक पहुंच पा रहे थे लेकिन नौ बजे के बाद ठसाठस रेला उमड़ने से मुख्य मार्गों के अलावा गलियों तक से तिल-तिल कर बढ़ने को लोग मजबूर हो गए। भीड़ में बच्चों को संभालना सबसे ज्यादा मुश्किल हो रहा था। सनातन धर्म इंटर कालेज परिसर स्थित कैलाश मान सरोवर के पंडाल में वैष्णो देवी के विकराल रूप को देखने के लिए भीड़ को बल्लियां लगाकर दो चरण में रोका जा रहा था। तीन मिनट का लाइट एंड साउंड पर आधारित वध का शो देखने के लिए यहां धक्कामुक्की होती रही। इस पंडाल के बाहर नई सड़क पर वाहन से लोग नहीं गुजर पा रहे थे। यही हाल चेतगंज से हथुआ मार्केट-लहुराबीर तक का था। मनसाराम फाटक की गैलरी सजावट और हबीबपुरा के फ्रेंडशिप क्लब में महिषासुर मर्दिनी का शो भीड़ के आकर्षण का केंद्र था। हथुआ मार्केट के पंडाल की आभा और भीतर प्रतिमा की सादगी भी श्रद्धालुओं को लुभा रही थी। यहां चार लाइन प्रवेश के लिए लगी थी और पंडाल के पीछे से निकास दिया गया था। टाउनहाल के सार्वजनिक दुर्गोत्सव समिति की पूजा देखने के लिए विशेश्वरगंज, चौखंभा, मैदागिन, भैरोनाथ, बीबी हटिया, हरतीरथ की महिलाएं यहां अधिक पहुंच रही थीं। पिपलानी कटरा स्थित कबीर स्पोर्टिगिं क्लब के पंडाल में लाइट एंड साउंड के जरिए महिषासुर वध देखने के लिए लोग उमड़ रहे थे। बीएचयू स्थित मधुवन के पंडाल के अलावा लंका, दुर्गाकुंड, कबीरनगर, नेवादा, ककरमत्ता, मंडुवाडीह, सिगरा, अर्दलीबाजार के पंडालों में भी तांता लगा रहा।

इनसेट
शेर की मुखाकृति वाले पंडाल ने लुभाया
वाराणसी। पिपलानी कटरा के पंडाल में शेर की गर्जना करती मुखाकृति आकर्षण का केंद्र बनी है। यहां रात नौ बजे आयोजक जब हलवा, घुघनी का प्रसाद बांटने लगे तो मारामारी मच गई। कुछ देर के लिए इस कदर अव्यवस्था का माहौल बना कि सड़क पैक हो गई।

इनसेट
उफ् कैसे रुकेगा ये कानफोड़ू शोर
वाराणसी। पंडालों में कानफोड़ू शोर वाले डीजे और शो साउंड राह चलते भक्तों का तन-बदन झकझोरते रहे। रात आठ बजे दशाश्वमेध से गंगा आरती देखकर चेतगंज होते हुए रिक्शे से जाने वाले विदेशी पर्यटक साउंड के शोर के आगे कान में उंगली डालकर जाते देखे गए। बच्चे-बड़े सभी परेशान दिखे।

इनसेट
चौराहे हुए पार्किगिं में तब्दील
वाराणसी। रात नौ बजे के बाद भीड़ इस कदर बढ़ी कि पुलिस के पसीने छूटने लगे। लहुराबीर चौराहा तो दो पहिया वाहनों के लिए पार्किगिं में तब्दील हो गया। कमोबेश यही नजरा मलदहिया मार्ग और जगतगंज का भी था। यहां चार पहिया वाहन खड़ा कर लोग परिवार के साथ पंडाल घूमने निकल रहे थे।

Spotlight

Most Read

National

'पद्मावत' के विरोध में मल्टीप्लेक्स के टिकट काउंटर में लगाई आग

रात करीब पौने दस बजे चार-पांच युवक जिन्होंने अपने चेहरे ढक रखे थे, मॉल में आए और टिकट काउंटर के पास पहुंच कर उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: श्रीलंका का ये सांस्कृतिक नृत्य देख कर झूम उठेंगे आप

बीएचयू के संगीत एवं मंच कला संकाय के पंडित ओंकार नाथ ठाकुर सभागार में गुरुवार की शाम श्रीलंकाई कलाकारों के नाम रही। यहां श्रीलंका से आए 10 कलाकारों के ‘ठुरैया ग्रुप’ ने पारंपरिक नृत्य से समां बांध दिया।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper