संप्रेक्षण गृह के शौचालय में फांसी लगाकर संवासी ने दी जान

Varanasi Updated Thu, 11 Oct 2012 12:00 PM IST
रामनगर। बाल संप्रेक्षण गृह के शौचालय में बुधवार की सुबह संवासी प्रवेश कन्नौजिया उर्फ विक्की (17 वर्ष) ने फांसी लगाकर जान दे दी। एक युवती के अपहरण के मामले में उसे चेतगंज पुलिस ने गिरफ्तार किया था। घटना से नाराज संवासियों ने उसका शव रोककर नारे लगाते हुए हंगामा किया। वे न्यायाधीश को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़े थे। किशोर बोर्ड की सदस्य किरन त्रिपाठी ने समझाकर संवासियों को शांत कराया। विक्की ने पिता को लिखे सुसाइड नोट में खुद को बेकसूर बताया था। समझा जा रहा है कि संप्रेक्षण गृह में उसका धैर्य जवाब दे गया था।
माधोपुर सिगरा निवासी अधिवक्ता प्रमोद कुमार कन्नौजिया का पुत्र प्रवेश कन्नौजिया उर्फ विक्की समय समय पर लगने वाले सेल में बतौर सेल्समैन काम करता था। पिछले माह चेतगंज पुलिस ने उसे नाटीइमली की एक लड़की के अपहरण के मामले में गिरफ्तार किया। इसके बाद उसे जेल भेज दिया गया था। तीन सितंबर को उसे जिला जेल से रामनगर स्थित संप्रेक्षण गृह भेजा गया। बुधवार की सुबह करीब दस बजे प्रवेश कन्नौजिया प्रथम तल स्थित शौचालय में गया। उसने शौचालय के राड में गमछा के सहारे फांसी लगा ली। हत्या के केस में बंद एक अन्य संवासी ने जब उसे फंदे से झूलते देखा तो शोर मचाने लगा। शोर सुनकर अन्य संवासी और कर्मचारी शौचालय के पास पहुंच गए। मजिस्ट्रेट द्वारा मुआयना करने के बाद पुलिस ने शव को नीचे उतारा। इस दौरान संवासी शव रोककर हंगामा करने लगे। वे न्यायाधीश को बुलाने की मांग कर रहे थे। यह देख किशोर बोर्ड की सदस्य किरन त्रिपाठी को बुलाया गया। उन्होंने समझा बुझाकर किशोरों को शांत कर दिया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। प्रवेश के पिता ने बताया कि रविवार को उसने एक सुसाइड नोट दिया था। उसमें लिखा था कि ये मत समझिए कि विक्की खराब लड़का है। जेल में उसे मम्मी, पापा, दादा, दादी, भांजी की याद आती है। मैने कोई कसूर नहीं किया है। हम किसी दिन अपना जीवन समाप्त कर लेंगे। नोट पढ़ने के बाद भी वह बेपरवाह हो गए लेकिन उसने सच में खुद को समाप्त कर लिया।

इनसेट
युवती के साथ काम करता था विक्की
अपहृत युुवती की मां फिर आईजी से मिलने गई थी
वाराणसी। संप्रेक्षण गृह में खुदकुशी करने वाला प्रवेश कुमार उर्फ विक्की कन्नौजिया समय समय पर लगने वाले सेल में अभिषेक, शकीना और प्रियंका के साथ काम करता था। इसी दौरान प्रवेश के दोस्त राकेश के साथ युवती लापता हो गई। घटना के बाद युवती प्रियंका की मां ने आईजी जोन से गुहार लगाई। इसके बाद चेतगंज पुलिस ने 18 जुलाई को चार लोगों के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज किया। विवेचक संतोष मिश्रा ने इस मामले में शकीना, अभिषेक और प्रवेश कुमार कन्नौजिया उर्फ विक्की को गिरफ्तार कर लिया। अदालत ने तीनों को जेल भेज दिया। फिर भी अपहृत युवती का पता नहीं चल सका। इस मामले में युवती की मां बुधवार को भी आईजी जोन जीएल मीणा से मिलने के लिए गई थी। इस मामले में प्रवेश के पिता का आरोप है कि घटना में उसका पुत्र शामिल नहीं था। जिस नंबर के आधार पर उसके बेटे को गिरफ्तार किया गया। वह नंबर आज भी चल रहा है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ओपी सिंह होंगे यूपी के नए डीजीपी, सोमवार को संभाल सकते हैं कार्यभार

सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह यूपी के नए डीजीपी होंगे। शनिवार को केंद्र ने उन्हें रिलीव कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: श्रीलंका का ये सांस्कृतिक नृत्य देख कर झूम उठेंगे आप

बीएचयू के संगीत एवं मंच कला संकाय के पंडित ओंकार नाथ ठाकुर सभागार में गुरुवार की शाम श्रीलंकाई कलाकारों के नाम रही। यहां श्रीलंका से आए 10 कलाकारों के ‘ठुरैया ग्रुप’ ने पारंपरिक नृत्य से समां बांध दिया।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper