2020 तक रुक जाएगा गंगा में सीवर गिरना : मित्तल

Varanasi Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। जल निगम के प्रबंध निदेशक एके मित्तल ने कहा कि 2020 तक गंगा में सीवर का गिरना बंद हो जाएगा। इसके लिए गंगा से जुड़े 26 शहरों के लिए कार्ययोजना बनाई गई है। इनमें 10 शहर ऐसे हैं, जहां निकलने वाला सीवेज सीधे नदी में नहीं पहुंचता है। वहीं, 16 शहरों में बिना ट्रीटमेंट के सीवेज सीधे नदी में जा रहा है। ज्यादा सीवेज निकलने वाले शहर वाराणसी, कानपुर एवं इलाहाबाद में रोकथाम के लिए काम चल रहा है। अन्य शहरों में के लिए विस्तृत कार्ययोजना बनाई जा रही है।
श्री मित्तल ने शनिवार को सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि गंगा से जुड़े जिन शहरों में सीवेज के निस्तारण के लिए सीवर लाइन एवं एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट) की कार्ययोजना बनाई जा रही है, उनमें फर्रुखाबाद, नरोरा, बिजनौर, बिठूर, मिर्जापुर आदि नगर शामिल हैं। कन्नौज में उन्होंने कहा कि एसटीपी एवं पंपिंग केंद्र के लिए संबंधित शहरों में अगर समय से जमीन उपलब्ध हो गई तो 2020 तक गंगा में गिर रहे सीवर को रोकने का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। बताया कि विकास प्राधिकरणों एवं आवास विकास परिषदों को कहा गया है कि जहां भी कालोनी विकसित करें, वहां एसटीपी सहित अन्य सारी सुविधाएं अपने फंड से विकसित करें, ताकि आबादी बढ़ने का विपरीत असर गंगा पर न पड़े। उन्होंने कहा कि जमीन के अभाव में ओवरहेड टैंक व एसटीपी से जुड़े कार्य नहीं हो पा रहे हैं। गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारियों को सथवां में प्रस्तावित 120 एमएलडी क्षमता के एसटीपी के लिए संबंधित काश्तकारों को राजी करने को कहा गया है, ताकि निर्माण कार्य जल्द शुरू हो सके।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अलग अंदाज में मनाया गया BHU स्थापना दिवस, आप भी कर उठेंगे वाह-वाह

सोमवार को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 102वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस मौके पर पारंपरिक परिधान में सजे छात्र-छात्रों ने झांकियां निकाली। झांकियों के साथ चल रहे स्टूडेंट्स ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते नजर आए।

23 जनवरी 2018