हक की खातिर छेड़ी संगठित होकर जंग

Varanasi Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। प्रभा, रानी, लालती, रीता, शीला, कलावती, पार्वती, रानी, चमेला, चिंता, मुन्नी। ये ऐसी महिलाओं के नाम हैं, जिनके घरों तक अभी आजादी की रोशनी ठीक से नहीं पहुंच पाई है। इनमें से अकेले शायद ही कोई सूरज की चमक का सामना कर पाता लेकिन आज सब मिलकर सूरज को छूने में लगी हैं। बेटावर की अमला माई नारी संघ की इन सदस्यों ने पिछले महीने जिला प्रशासन के नाक में दम कर दिया था। उनके दबाव में प्रशासन को घुटने टेकने पड़े। गांव में जेसीबी से हो रहे अवैध खनन को बंद कराना पड़ा। बेटावर ही नहीं काशी विद्यापीठ ब्लाक के 10 गांवों की 1654 महिलाएं संगठित होकर अपने हक की लड़ाई लड़ रही हैं। उनको भरोसा है कि दिल्ली से चला उनके हिस्से का एक-एक रुपया उनके पास तक पहुंचेगा।
कुरहुआ गांव में तीन साल से महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत कोई काम ही नहीं कराया गया था। बार-बार मांगने पर भी रोजगार नहीं दिया गया। एक दर्जन मजदूरों की मजदूरी बकाया थी। इन समस्याओं के खिलाफ अप्रैल 2011 में महिलाएं संगठित हुईं। उन्होंने आंचल को परचम बनाया और चूडि़यों को एक साथ खनकाकर सबकी नींद उड़ा दी। मनरेगा हेल्पलाइन, खंड विकास अधिकारी के दफ्तर पर दस्तक देकर गांव में काम शुरू करवाया और बकाया मजदूरी भी दिलवाई। उसके बाद आसपास के गांवों में चौरामाई, कजरी माई, सम्मा माई, देवरही माई जैसी ग्राम देवियों के नाम से महिलाओं के संघ बनने लगे। नवंबर में बेटावर गांव में अमला माई नारी संघ बना। सराय डेहरी, मूलादेव, कुरहुआ, माधोपुर, छितौनी, बच्छांव, बेलना में महिलाओं ने राशन की दुकानों पर चल रही धांधली को बंद कराया। बेटावर, छितौनी, करसड़ा, बंदेपुर में लड़ाई जारी है। बेटावर के अमला माई नारी संघ की अध्यक्ष प्रभा देवी का कहना है कि पूरा गांव मुंहनोचवा (जेसीबी) से बकोटत (खोदना) रहेन तऽ हमहन लड़ाई लड़नी, खोदाई बंद होई गइल। महिला संघों की ज्यादातर महिलाएं पढ़ी-लिखी नहीं हैं। वे ब्रिज जनजागरण समिति से जुड़े युवकों की मदद से पेंशन, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, इंदिरा आवास, मनरेगा आदि सुविधाओं की बाबत जानकारी हासिल करती हैं। उन्हीं से अपने आवेदन आदि लिखवाती हैं। खुद ब्लाक और जिला मुख्यालय पर जाकर विरोध प्रदर्शन करती हैं। दसों गांवों के संघों को मिलाकर जागृति नारी महासंघ बना है। उसकी अध्यक्ष तेतरी देवी, सचिव उर्मिला और कोषाध्यक्ष नगीना हैं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में फिर शुरू हुई डीजीपी की रेस, ओपी सिंह को केंद्र ने नहीं किया रिलीव

उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी के लिए अभी और इंतजार करना पड़ सकता है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: सोनभद्र में सफाई कर्मचारियों ने इसलिए मुंडवाया अपना सिर

पूर्वी यूपी के सोमभद्र में उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के लोगों ने कलेक्ट्रेट पर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान अपनी 11 सूत्रीय मांगों को पूरी कराने को लेकर दर्जनों सफाईकर्मियों  ने सिर मुंडन कराया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper