महादेव के दर्शन को काशी में उमड़ा आस्था का सैलाब

Varanasi Updated Tue, 17 Jul 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। मृगशिरा नक्षत्र में पूर्ण प्रदोष के साथ आए सावन के दूसरे सोमवार को देवाधिदेव के दर्शन के लिए काशी में आस्था की बाढ़ सी आ गई। देश के कोने-कोने से भक्तों का सैलाब इस कदर उमड़ा कि मंदिर क्षेत्र से लगे दर्जन भर मोहल्लों के लोग घरों में पैक हो गए। विश्वनाथ मंदिर जाने वाले हर रास्ते पर बोल बम का जयघोष करते कांवरियों का तांता लगा तो भीड़ को काबू करने में पुलिस के पसीने छूटने लगे। दर्शन में देरी पर छत्ताद्वार के पास धैर्य खो रहे भक्तों को नियंत्रित करने के लिए आएएफ के जवानों को लाठियां भांजनी पड़ र्गइं। इसमें आधा दर्जन से अधिक भक्त घायल हो गए। देर शाम तक रिकार्ड तोड़ 2.25 लाख कांवरियों ने बाबा का जलाभिषेक किया। मराकंडेय महादेव से लेकर काशी के प्रमुख शिवालयों में भक्तों का शाम तक रेला लगा रहा।
सोम प्रदोष में बाबा को जल अर्पित करने को इस कदर रेला उमड़ने की प्रशासन को भी उम्मीद नहीं थी। रात को लगी लाइन बढ़ती गई। भोर में जब हालात बेकाबू होने लगे तब आरएएफ और पुलिस के जवानों ने दशाश्वमेध से डुबकी लगाकर आने वाले भक्तों की एक कतार लक्सा में लक्ष्मीकुंड से होकर छत्ताद्वार के लिए लगवा दी। इससे भी मामला नहीं संभला और कारवां इस कदर बढ़ता गया कि पौ फटने तक गिरजाघर से गोदौलिया तक सड़क पर भक्तों को बैठाना पड़ा। इससे उधर से पैदल आवाजाही भी ठप हो गई। अगस्त्यकुंडा, भूतेश्वर गली, त्रिपुरा भैरवी, मीरघाट, जंगमबाड़ी के लोग सड़क से होकर मंजिल तक नहीं जा सके। इसलिए कि पुलिस ने हर तरफ से रास्ता तो रोक रखा था लेकिन निकलने की जगह नहीं दी गई थी। दशाश्वमेध में तो तिल रखना भी मुश्किल था। वालेंटियर भी भीड़ नियंत्रित करने को मशक्कत कर रहे थे। इससे पहले मंगला आरती के बाद तक करीब डेढ़ घंटा दर्शन रोके जाने से ज्ञानवापी क्रासिंग पर भीड़ बेकाबू होने लगी। आएएफ के जवानों के लाठी भांजने से मुगलसराय के बाबी (28) के पैर की हड्डी फ्रैक्चर हो गई। समस्तीपुर(बिहार) की उर्मिला के सिर में चोट आने से खून बहने लगा। लाठीचार्ज के वक्त भक्तों में धक्कामुक्की से तमाम महिलाएं गिर पड़ीं। शिव सेना के सहायता शिविर से विजयनारायण पांडेय कुछ सहयोगियों के साथ मदद को पहुंचे। विजय नारायण की मानें तो बाबी और उर्मिला दोनों को दर्शनार्थी ही लेकर किसी अस्पताल में गए। उधर, गौरी केदारेश्वर, तिल भांडेश्वर, महामृत्युंजय, जैगषव्यैश्वर, बीएचयू विश्वनाथ मंदिर में भी भक्तों का तांता लगा था।

इनसेट
डाक बम ने भी तोड़ा रिकार्ड
वाराणसी। दूसरे सोमवार पर डाक बम भक्तों ने भी रिकार्ड तोड़ दिया। शाम तक आठ सौ से अधिक डाक बम भक्तों ने बाबा विश्वनाथ का दौड़ते हुए दर्शन किया। सभी प्रयाग से जलभर कर नंगे पांव दौड़े हुए आए थे। काशी विश्वनाथ कांवरिया सेवा शिविर लक्सा के उपाध्यक्ष राजेश शुक्ला ने बताया कि आठ सौ से अधिक डाक बम ने शाम सात बजे तक जलाभिषेक किया। उनकी सहायता के लिए मंडुवाडीह से कोतवालपुरा तक 150 सेवादार लगाए गए थे।

प्वाइंटर
2.25 लाख भक्तों ने किया बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक
1.50 लाख भोले भक्त पहुंचे मारकंडेय महादेव
800 डाक बम ने दौड़कर किया बाबा का दर्शन
15 सेवा शिविरों में रहा उत्सव जैसा माहौल
03 जगहों पर भक्तों के पैरों को धोने की मची रही होड़
बाक्स
पुलिस ने कांवरियों को दर्शन से रोका
वाराणसी। इलाहाबाद से जल भर कर नंगे पांव काशी पहुंचे 15 कांवरियों को सोमवार की शाम विश्वनाथ मंदिर में जल अर्पित नहीं करने दिया गया। दिन भर लाइन में अपनी बारी की प्रतीक्षा कर भीतर पहुंचे उन कांवरियों का जल पुलिस ने गर्भगृह में जाने से पहले बैकुंठ महादेव पर ही चढ़वा दिया। इससे तमाम दर्शनार्थी भड़क उठे। वह सुबह से ही लाइन में लगे थे।
सुबह से ही लाइन में लगे डेढ़ दर्जन कांवरिये शाम को सप्तर्षि आरती से पहले काशी विश्वनाथ के दर्शन से वंचित कर दिए गए। उन्हें गर्भगृह में जाने से पहले ही रोककर जल बैकुंठ महादेव पर चढ़वा दिया गया। बाबा के दर्शन से वंचित हुए भक्तों ने एएसपी(ज्ञानवापी) श्रीपति मिश्र से इसकी शिकायत की। अभिषेक शुक्ला, रिंकू पांडेय, पंकज मिश्र, अनुज शुक्ला, सचिन शुक्ला, अतुल शुक्ला, आनंद मिश्र, राकेश, चंद्रप्रकाश का कहना था कि 140 किलोमीटर नंगे पैर चल कर वह आए थे। उन्हें बाबा विश्वनाथ का दर्शन नहीं करने दिया गया और धकिया कर बाहर कर दिया गया। एएसपी ने भरोसा दिलाया कि सप्तर्षि आरती के बाद उन्हें फिर से लाइन में लगाकर दर्शन करवाया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

लालू की नई मुसीबत, चाईबासा कोषागार मामले में आज आएगा फैसला

चारा घोटाला मामले में रांची की स्पेशल सीबीआई कोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगी। स्पेशल कोर्ट जज एस एस प्रसाद इस मामले में फैसला देंगे।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अलग अंदाज में मनाया गया BHU स्थापना दिवस, आप भी कर उठेंगे वाह-वाह

सोमवार को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 102वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस मौके पर पारंपरिक परिधान में सजे छात्र-छात्रों ने झांकियां निकाली। झांकियों के साथ चल रहे स्टूडेंट्स ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते नजर आए।

23 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper