विद्युतापूर्ति नहीं सुधरी तो सड़क पर उतरेंगे बुनकर

Varanasi Updated Mon, 16 Jul 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। अंधाधुंध बिजली कटौती ने बुनकरों को उद्वेलित कर दिया है। बिना शेड्यूल के घंटों बिजली काट देेने से उनका कारोबार चौपट हो रहा है। आम दिनों में 150 रुपये तक प्रतिदिन कमा लेने वाला बुनकर बमुश्किल 25 रुपये ही कमा पा रहा है। इस समस्या के समाधान के लिए बुनकर जनप्रतिनिधियों के माध्यम से प्रशासन से गुहार लगाएंगे। अगर इसके बाद भी कोई सुधार नहीं हुआ तो वे सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन करेंगे।
बता दें कि विगत कुछ दिनों से शहर में अंधाधुंध कटौती हो रही है। क्या दिन और क्या रात, कभी भी घंटों बिजली काट दी जा रही है। इसके चलते कारोबार पर व्यापक असर पड़ रहा है। खासकर बुनकरों की तो रोजी-रोटी पर संकट आ गया है। सरैयां, बजरडीहा, छित्तनपुरा, जलालीपुरा, लल्लापुरा, बड़ी बाजार जैसे इलाकों में बुनकर हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं। उनका कहना है कि पहले शेड्यूल के हिसाब से कटौती होती थी, लेकिन अब कभी भी घंटों बिजली काट दी जा रही है। पहले जहां 16-17 घंटे बिजली मिल रही थी वहीं बड़ी मुश्किल से पांच-छह घंटे ही मिल पा रही है। जलालीपुरा के बुनकर बदरुद्दीन अंसारी और जब्बार अंसारी का कहना है कि बिजली न रहने से लूम बंद हो जा रहे हैं। उत्पादन पर व्यापक असर पड़ रहा है। मजदूरी घट जाने से आर्थिक स्थिति बिगड़ती जा रही है। अगल स्थिति में जल्द सुधार न हुआ तो ईद खराब हो जाएगी। पूर्व सरदार शमसुद्दीन का कहना है कि बेहिसाब कटौती ही नहीं हो रही बल्कि ट्रांसफार्मर उड़ जाने से बिजली बहाल होने में कई-कई दिन लग जा रहे हैं पर कोई देखने वाला नहीं है।
बुनकर बिरादराना तंजीम चौदहों के सरदार मकबूल हसन का कहना है कि बिजली कटौती ने बुनकरों का कारोबार चौपट कर दिया है। आम बुनकर दिनभर के बाद बमुश्किल 25 रुपये ही कमा पा रहा है। समय से माल तैयार न होने पर बाजार भी नहीं जा पा रहा। इसके चलते बेहद नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि इस समस्या के समाधान के लिए जनप्रतिनिधियों के माध्यम से प्रशासन से गुहार लगाई जाएगी। इसके बाद भी कोई सुधार न हुआ तो बुनकर आंदोलन करेंगे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, पांच साल की सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अलग अंदाज में मनाया गया BHU स्थापना दिवस, आप भी कर उठेंगे वाह-वाह

सोमवार को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 102वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस मौके पर पारंपरिक परिधान में सजे छात्र-छात्रों ने झांकियां निकाली। झांकियों के साथ चल रहे स्टूडेंट्स ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते नजर आए।

23 जनवरी 2018