कम से कम नागरिक सुविधाएं तो मिलें

Varanasi Updated Thu, 14 Jun 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। शहर में खुदी पड़ीं सड़कें, गंदगी का अंबार तथा ओवरफ्लो करते सीवर के बीच नगर निगम चुनाव के लिए मेयर तथा पार्षद पद के प्रत्याशियों का जनसंपर्क दिनोंदिन परवान चढ़ता जा रहा है। इसी को ध्यान में रखकर अमर उजाला ने बुधवार को चांदपुर कार्यालय में फोकस कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें मेयर पद के प्रमुख दावेदारों के साथ ही गणमान्य नागरिक भी उपस्थित हुए। चर्चा के दौरान यह बात प्रमुख रूप से उभरकर सामने आई कि यहां नागरिक सुविधाओं-सड़क, सीवर, पानी का घोर अभाव है। उत्साह से लबरेज प्रत्याशियों में इन समस्याओं के समाधान का माद्दा भी दिखा।

साफ-सफाई का घोर अभाव है। सीवर की समस्या जटिल है। सुचारु जलापूर्ति नहीं हो पाती है। नगर निगम की कार्य संस्कृति चौपट हो गई है। अफसर-ठेकेदार का गठजोड़ लूट-खसोट में लगा हुआ है। उनका नागरिक सुविधाओं से वास्ता नहीं है - विजय नारायण, समाजवादी विचारक

गंगा के प्रदूषित होने का शोर मचाना बंद होना चाहिए। यह सुनिश्चित हो कि गंगा में गिरने वाले नाले हरहाल में बंद हों ताकि गंगा की निर्मलता बरकरार रहे। साथ ही काशी की प्राचीनता को भी बनाए रखने के लिए प्रयास किया जाना चाहिए- कुलपति तिवारी, महंत- श्री काशी विश्वनाथ मंदिर

साफ-सफाई की बुरी स्थिति है। गंदगी इतनी अधिक है कि लोग यहां आने से कतराने लगे हैं। नाते-रिश्तेदार आने का नाम नहीं लेते। युवा वर्ग खासकर नाक, भौं सिकोड़ता है। ऐसे प्रयास हों कि काशी की प्राचीनता बरकरार रहे और आधुनिकता का भी समावेश हो- डा. ऋतु गर्ग, संतुष्टि अस्पताल

विकास के नाम पर पूरे शहर को खोदकर छोड़ दिया गया है। कोई ऐसी सड़क नहीं है जो दुरुस्त हो और लोग आसानी से आ-जा सकें। बड़े-बड़े गड्ढों के चलते हालत खराब है। आम लोग बीमारियों की जकड़न में फंसते जा रहे हैं -शारदा विजया, गृहिणी

साफ-सफाई की मुकम्मल व्यवस्था हो। स्ट्रीट लाइट दुरुस्त होनी चाहिए। सार्वजनिक स्थलों को अतिक्रमण मुक्त किया जाना चाहिए। जनप्रतिनिधियों को इसके लिए व्यापक दृष्टि रखनी होगी तभी सारी समस्याओं का हल निकल सकता है - डा. राज सिंह, शिक्षाविद्

गंगा को साफ-सुथरा रखने के लिए ठोस पहल होनी चाहिए। गंगा इतनी मैली हो गई हैं कि लोग आचमन करने से कतराते हैं। साफ-सफाई का भी बुरा हाल है। जगह-जगह गंदगी के ढेर पड़े रहते हैं। सीवर ओवरफ्लो रोजाना की समस्या है। कम से कम यह सूरत बदलनी चाहिए - भागीरथ जालान, युवा उद्यमी

खेल के मैदान की कमी है। जो मैदान हैं भी वहां भारी भीड़ होती है और बच्चों को जगह नहीं मिल पाती। इस वजह से उन्हें खेलने का मौका नहीं मिलता और शारीरिक विकास ठीक ढंग से नहीं हो पाता है। कोशिश हो कि प्रत्येक वार्ड में एक खेल मैदान बन जाए -नीलू मिश्र, राष्ट्रीय खिलाड़ी

कुंडों तथा तालाबों के इस शहर में दोनों ही लगभग गायब हो गए हैं। सरकारी विभागों ने खुद कब्जा कर रखा है। गंगा को साफ सुथरा रखने के लिए कोई विशेष पहल नहीं हो रही है। कम से कम काशी की प्राचीन पहचान को बचाए रखने की जिम्मेदारी नगर निगम को उठानी होगी - वागीश दत्त मिश्रा, केंद्रीय देव दीपावली समिति

काशी में जनसंख्या का दबाव काफी बढ़ गया है। इसके चलते ही सारी समस्याएं उत्पन्न हुई हैं। समस्याओं के समाधान के लिए नई काशी बसाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है - विनोद सिंह, कारोबारी

नागरिक सुविधाओं के हल के लिए ठोस पहल होनी चाहिए। नेताओं की कथनी और करनी में फर्क नहीं होनी चाहिए। केवल चर्चा से समस्याओं का निदान होने वाला नहीं है - संजय कपूर,

खाद्य पदार्थों की पूर्वांचल की सबसे बड़ी मंडी विशेश्वरगंज में बीच मंडी कूड़ा घर है। इससे कारोबार में दिक्कतें आती हैं। साथ ही खाद्य पदार्थों के प्रदूषित होने का खतरा बना रहता है। इसे तत्काल हटाया जाना चाहिए। - बब्लू केशरी मामा, व्यवसायी

मुद्दे जो उठे
1. शहर का नियोजित तरीके से विकास हो
2. सीवर, सड़कें दुरुस्त होनी चाहिए
3. सुचारु जलापूर्ति तथा जलनिकासी की व्यवस्था हो
4. तालाबों एवं कुंडों से कब्जे हटाए जाएं, पार्कों का सुंदरीकरण हो
5. नगर निगम के स्कूलों तथा अस्पतालों की दशा में सुधार हो

फोकस : प्रत्याशियों ने गिनाई प्राथमिकताएं

क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत के साथ ही स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था सुदृढ़ की जाएगी। गंगा में सीवर गिरने से रोकने की कोशिश होगी। यातायात जाम की समस्या के निराकरण को और फ्लाईओवर बनवाए जाएंगे। शुद्ध जलापूर्ति व नियमित सफाई होगी - डा. अशोक सिंह (कांग्रेस)

दो साल में सीवर लाइन की व्यवस्था सुदृढ़ होगी। नियोजित विकास का खाका तैयार कर विकास कार्य कराए जाएंगे। पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए आधारभूत सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी। नागरिक सुविधाओं में सुधार की कोशिश होगी - रामगोपाल मोहले (भाजपा)

नगर निगम कंट्रोल रूम में टोल फ्री नंबर की व्यवस्था की जाएगी। यहां आने वाली शिकायतों का चौबीस घंटे में निस्तारण होगा। बढ़े जल व गृह कर कम होंगे। काशी की धरोहर व संस्कृति को बचाने के साथ ही अधिकारियों की मनमानी पर अंकुश लगेगा - प्रमोद गुप्ता अग्रहरि (बसपा समर्थित)

काशी में विश्वस्तरीय सुविधाएं विकसित कराई जाएंगी। राष्ट्रीय राजमार्ग के अनुरूप सड़कों का निर्माण, सीवर लाइन की व्यवस्था सुदृढ़ करना और खराब स्ट्रीट लाइटों को बदलकर प्रकाश व्यवस्था सुदृढ़ किया जाएगा। नगर निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा - कन्हैया लाल गुप्ता (सपा समर्थित)

यदि मेयर बना तो पहले ही दिन सफाईकर्मियों के साथ बैठकर चाय पिऊंगा। इसी के साथ शहर की सफाई व्यवस्था को पटरी पर लाने की पहल शुरू होगी। दो पालियों में सफाई कराई जाएगी। समन्वयन समिति बनाकर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाएगी। बढ़े गृह व जल कर को हर हाल में कम कराया जाएगा। निगम के बंद पड़े अस्पतालों को चालू कराने और सीवर समस्या का निराकरण कराया जाएगा- रत्नाकर त्रिपाठी

नगर निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के साथ एटूजेड की सफाई व्यवस्था को समाप्त कर इसकी जिम्मेदारी पूरी तरह से निगम के हवाले की जाएगी। अतिक्रमण हटाए जाने से उजाड़ने वाले गरीबों को बसाने की व्यवस्था होगी। तालाबों व कुंडों से अतिक्रमण हटाकर पुराना स्वरूप बहाल करना, गंगा में सीवर गिरने से रोकने व सभी घाटों पर पेड़ लगाने की व्यवस्था सुनिश्चित होगी - शिवनाथ यादव (सीपीएम)

नगर निगम के स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था में सुधार, नागरिकों को आपात चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के लिए नगर निगम में एंबुलेंस की व्यवस्था, खस्ताहाल अस्पतालों में सुधार कर उनमें चिकित्सा सुविधा बहाल कराने की कोशिश होगी। कामधेनू नगर बसाया जाएगा- पारसनाथ जायसवाल

सड़कों को गड्ढामुक्त करना, निजी स्कूलों में फीस के नाम पर अभिभावकों से वसूली बंद कराना तथा काशी को बिजली कटौती से मुक्त कराने की पहल होगी। कछुआ सेंचुरी खत्म कराने के साथ यातायात जाम की समस्या के निराकरण की कोशिश होगी - सुधीर सिंह

नियोजित विकास का खाका तैयार कर आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। बढ़ती आबादी के अनुरूप नागरिक सुविधाएं विकसित की जाएंगी - डा. आनंद प्रकाश तिवारी (सीपीआई)

Spotlight

Most Read

Lucknow

ओपी सिंह होंगे यूपी के नए डीजीपी, सोमवार को संभाल सकते हैं कार्यभार

सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह यूपी के नए डीजीपी होंगे। शनिवार को केंद्र ने उन्हें रिलीव कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: श्रीलंका का ये सांस्कृतिक नृत्य देख कर झूम उठेंगे आप

बीएचयू के संगीत एवं मंच कला संकाय के पंडित ओंकार नाथ ठाकुर सभागार में गुरुवार की शाम श्रीलंकाई कलाकारों के नाम रही। यहां श्रीलंका से आए 10 कलाकारों के ‘ठुरैया ग्रुप’ ने पारंपरिक नृत्य से समां बांध दिया।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper