विज्ञापन

फूलों से महकी, रोशनी से नहाई सुरों की शाम

Varanasi Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
वाराणसी। धन्यवाद, शुक्रिया, मेहरबानी...मेरे और मेेरे साथ आए साथियों की ओर से। भोले की नगरी में तीस साल पुरानी पहली बार की महकती यादों को लिए यह अल्फाज थे गलज गायकी की दुनिया के मशहूर फनकार पंकज उधास के। बड़े अदब, तहजीब और खुशमिजाजी के साथ वह सलीके से डायस पर आए और गजलों के एक-एक शेर सुरों में संवाकर हर किसी के जेहनो दिल में उतर कर महफिल में छा गए। गुलाब, रजनीगंधा के फूलों के अलावा लतर की रोशनी से सजी यह खुशनुमा शाम बनारस क्लब में आयोजित की गई थी।
विज्ञापन
सुनहरे गुलदस्ते के सामने अफसरों, शहर की जानी मानी हस्तियों के साथ पंकज उधास ने दीप जलाया। बनारस क्लब के अध्यक्ष कमिश्नर चंचल तिवारी, जिलाधिकारी समीर वर्मा, डीआईजी ए सतीश गणेश, एसएसपी बीडी पालसन की मौजूदगी में खैरमकदम के बाद उन्हें संकट मोचन का स्मृति चिह्न भेंट किया गया। जगह-जगह केवड़ा, गुलाब की फुहारें महफिल को खुशबुओं से तर -बतर कर रही थीं। वह बोल पड़े, आज की रात मेरी पसंदीदा गजलें और आपकी फमाइशें दोनों चलेंगी। फिर वह भीड़ से साथ देने की बात करने लगे। मोलाहजा फरमाने की पेशकश के साथ कैसरुल जाफरी का गुनगुनाने लगे। साज बज उठा। दीवारों से मिलकर सोना अच्छा लगता है, गम भी पागल हो जाएंगे ऐसा लगता है...। फिर तो गजलों फिजा बन गई। शराब, शबाब और मोहब्बत के नगमें गूंजने लगे। आपके लिए गुनाह सही हम पिएं तो शबाब बनती है, सौ गमों को निचोड़ने के बाद एक कतरा शराब बनती है...। तालियों की बौछार शुरू हुई। सबको मालूम है मैं शराबी नहीं, फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूं...। सिर्फ एक बार नजरों से नजरें मिलें ... और कसम टूट जाए तो मैं करूं...। जिएं तो जिएं कैसे बिन आपके के अलावा एक से बढ़कर एक गजलें उन्होंने पेश की। मौसम भी खुशगवार हो गया। हलकी फुहारों को नजर अंदाज कर लोग मस्ती में खोए रहे। पंकज उधास ने शेर पढ़ा लोग तुमको गुलाब कहते हैं, और जाने शबाब कहते हैं, आप जैसे हसीन चेहरों को हम खुदा की किताब कहते हैं...। आप जिनके करीब होते हैं, वो बड़े खुशनसीब होते हैं...। क्लब के सचिव एनपी सिंह ने संचालन किया।
बहुत तमाम उम्र कहां कोई साथ देता है, ये जनता हूं फिर भी कुछ साथ चलो।
इनसेट
आपके प्यार का लाख-लाख शुक्र
वाराणसी। पंकज उधास ने बनारस के मिजाज और मस्ती की जमकर तारीफ की। बताया कि जब पहली बार 1982 में आया था तब जो यहां के लोगों ने प्यार दिया वह भूलता नहीं। आपके प्यार का शुक्रगुजार हूं। आने वाले दिनों में भी सुरों-महफिलों का यह रिश्ता बने रहने की पेशकश भी उन्होंने की।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Kanpur

हाथों में मेहंदी और गले में कसी थी रस्सी, महिला के शव के पास पड़ी थी खून से सनी बोतल, फैली सनसनी

यूपी के कन्नौज जिले में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे किनारे बुधवार सुबह एक महिला का शव मिलने से सनसनी फैल गई। ग्रे कलर का सूट व प्लाजो पहने महिला के हाथ में चूड़ियां और मेहंदी भी लगी थी। गले में रस्सी कसी थी।

19 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

पीएम ने काशी को दिया 550 करोड़ रुपयों का रिटर्न गिफ्ट!

अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे दिन मंगलवार को काशी की जनता को 557.40 करोड़ रुपये की सौगात दी।

18 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree