समस्याओं को समझने से पहले ही विदा हो जा रहे हैं अफसर

Varanasi Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
सिर्फ कागज में मिल रही भरपूर बिजली
पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के 21 जिलों में कटौती से लोग त्रस्त
तीस महीने में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम को मिले सात मुखिया
वाराणसी। प्रबंध निदेशक के लगातार तबादलों से पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम से जुड़े 21 जिलों में बिजली आपूर्ति व्यवस्था बुरी तरह से चरमरा गई है। 17 नवंबर 2009 से अब तक सात लोग इस पद को संभाल चुके हैं। यानि औसतन एक एमडी चार माह भी यहां नहीं रहे। यही नहीं 31 मार्च से अब तक तीन महीने में तीन प्रबंध निदेशक बदल चुके हैं। आपूर्ति में आड़े आ रही बाधाओं को समझने से पहले ही अधिकारी बदल जाते हैं। ऐसे में लोगों को बिजली की समस्या से निजात मिले तो कैसे।
शासन की ओर से ग्रामीण इलाकों, तहसील, जिला और मंडल मुख्यालय से लेकर नोएडा तक की आपूर्ति का शेड्यूल तो तय कर दिया गया लेकिन जमीनी स्तर पर उसका पालन कहीं नहीं दिख रहा। विभागीय अधिकारियों के दावों के उलट भीषण गर्मी में मनमानी कटौती ने लोगों को रुला दिया है। नए अधिकारी आते हैं और कागज पर दर्ज शेड्यूल के अनुसार सप्लाई की घोषणा करते हैं लेकिन समस्याओं को समझने से पहले ही उनका स्थानांतरण हो जाता है। 17 नवंबर 2009 से अब तक सात अधिकारी विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक का पद संभाल चुके हैं। इससे साफ है कि जब तक एक अफसर समस्याओं को समझाने का प्रयास करता है तबतक नया आ जाता है। डुबकियां स्थित चार सौ केवीए उपकेेंद्र का दावा है कि कटौती के बाद रविवार को वाराणसी मंडल मुख्यालय को 22.30 घंटे, आजमगढ़ को 21.15 घंटे और मिर्जापुर मंडल को 24 घंटे आपूर्ति की गई। लेकिन तीनों मंडलों के सबस्टेशनाें से प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्रामीण स्तर से लेकर जिले स्तर तक दिन-रात बिजली की आवाजाही बनी रही। हकीकत में आजमगढ़ में बमुश्किल15 घंटे ही सप्लाई हो रही है। चंदौली में 17 घंटे का शेड्यूल निर्धारित है लेकिन सोमवार को 12 घंटे ही बिजली मिली। सोनभद्र में 16 घंटे की जगह 10-12 घंटे ही आपूर्ति हो रही है। इसी तरह गाजीपुर में 18 घंटे के शेड्यूल में से छह घंटे तक की कटौती से उपभोक्ता परेशान हैं। मऊ में 17 घंटे की बजाय दस घंटे ही बिजली दी जा रही है। मिर्जापुर में भी जबरदस्त कटौती से उपभोक्ता परेशान हैं। चंदौली, जौनपुर, वाराणसी के ग्रामीण इलाकों में तो एक सप्ताह दिन में तो एक सप्ताह रात में सप्लाई हो रही है।

सप्लाई का शेड्यूल
-ग्रामीण क्षेत्र- 10 घंटे
-तहसील मुख्यालय- 16 घंटे
जिला मुख्यालय 16-18 घंटे
मंडल मुख्यालय-20-22 घंटे
-नोयडा/ग्रेटर नोएडा/महानगर -24 घंटे

17 नवंबर 2009 से अब तक के प्रबंध निदेशक
सुरेश राम-कार्यवाहक 17 नवंबर 09 से 18 जनवरी 2011 तक
पंकज कुमार-19 जनवरी से 26 फरवरी तक
धीरज साहू-26 फरवरी से 28 मार्च तक
सुरेश राम-कार्यवाहक-28 मार्च से 14 सितंबर तक
श्रीकांत प्रसाद-कार्यवाहक-15 सितंबर से 31 मार्च 2012
विजय विश्वास पंत- 31 मार्च से 25 मई 2012
एपी मिश्र- 28 मई से अब तक

पूर्वांचल वितरण निगम से जुड़े है ये जिले
वाराणसी, चंदौली, जौनपुर, गाजीपुर, मिर्जापुर, सोनभद्र, भदोही, आजमगढ़, मऊ, बलिया, गोरखरपुर, महराजगंज, देवरिया, कुशीनगर, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संत कबीर नगर, इलाहाबाद, फतेहपुर, प्रतापगढ़, कौशांबी।

Spotlight

Most Read

Bihar

नीतीश के काफिले पर पथराव के बाद जेड प्लस सुरक्षा देगी मोदी सरकार

बिहार के मुख्यमंत्री के काफिले पर कुछ दिनों पहले हुए हमले के मद्देनजर नीतीश कुमार को जेड प्लस श्रेणी सुरक्षा दी जाएगी।

19 जनवरी 2018

Varanasi

मऊ की खबर

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: सोनभद्र में सफाई कर्मचारियों ने इसलिए मुंडवाया अपना सिर

पूर्वी यूपी के सोमभद्र में उत्तर प्रदेश पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के लोगों ने कलेक्ट्रेट पर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान अपनी 11 सूत्रीय मांगों को पूरी कराने को लेकर दर्जनों सफाईकर्मियों  ने सिर मुंडन कराया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper