अनुसूचित जनजाति वाले इलाकों में खुलेंगे अस्पताल

Varanasi Updated Thu, 03 May 2012 12:00 PM IST
वाराणसी। अनुसूचित जनजाति वाले इलाकाें में नए अस्पताल खोले जाएंगे। इसके लिए स्वास्थ्य महानिदेशालय कार्ययोजना तैयार कर रहा है। इसके मद्देनजर प्रदेश में ऐसे गांवाें को चिह्नित किया जा रहा है जहां अनुसूचित जनजाति की आबादी कुल जनसंख्या का चालीस प्रतिशत या उससे अधिक होगी। इसका उद्देश्य है इस समुदाय के लोगों तक स्वास्थ्य योजनाओं का लाभ पहुंचाना।
अनुसूचित जनजातियों में मातृत्व और शिशु मृत्यु दर कम करना, सुलभ उपचार उपलब्ध कराना नई कार्ययोजना का लक्ष्य है। इसके लिए प्रदेश के सभी जिलाें से अनुसूचित जनजाति बाहुल्य वाले इलाकाें की सूची मांगी गई है। इसके लिए सर्वे शुरू हो गया है। 15 मई को सूची शासन को भेजी जानी है और इसी माह के अंत तक कार्ययोजना को अंतिम रूप दे दिया जाएगा। पूर्वांचल में सोनभद्र, चंदौली और मिर्जापुर के कई गांवों में बड़ी संख्या में अनुसूचित जनजाति के लोग रहते हैं। अपर निदेशक डा. केके सिंह के मुताबिक अनुसूचित जनजाति वाले इलाकों में कुछ जगहाें पर स्थायी अस्पताल बनाए जाएंगे। जबकि, कुछ स्थानों पर सचल अस्पताल की व्यवस्था होगी। शासन के निर्देशानुसार ऐसे गांवों को चिह्नित किया जा रहा है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अलग अंदाज में मनाया गया BHU स्थापना दिवस, आप भी कर उठेंगे वाह-वाह

सोमवार को बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 102वां स्थापना दिवस मनाया गया। इस मौके पर पारंपरिक परिधान में सजे छात्र-छात्रों ने झांकियां निकाली। झांकियों के साथ चल रहे स्टूडेंट्स ढोल-नगाड़ों की थाप पर थिरकते नजर आए।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls