लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   UP Assembly Election 2022 prayagraj Aadhi Abadi Ki Baat Coverage News Updates In Hindi

UP Election 2022: प्रयागराज की महिलाएं एक सुर में बोलीं- पहले से बिल्कुल बदल गई है संगम नगरी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, प्रयागराज Published by: मुकेश कुमार झा Updated Thu, 16 Dec 2021 03:14 PM IST
सार

चाय पर चर्चा और युवाओं से बातचीत के बाद 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' देश की आधी आबादी के बीच पहुंचा। प्रयागराज में महिलाओं ने खुलकर चुनावी मुद्दों पर चर्चा की।

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022, महिलाओं से चुनावी चर्चा
प्रयागराज, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022, महिलाओं से चुनावी चर्चा - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' देश की आधी आबादी के बीच प्रयागराज पहुंचा। इस दौरान यहां कि महिलाओं ने एक सुर में कहा कि इलाहाबाद पहले से बिल्कुल बदल गया है। इस दौरान उन्होंने विकास, महिला सुरक्षा, शिक्षा और महंगाई के मुद्दे पर खुलकर बात की। इस दौरान कुछ महिलाओं ने वर्तमान सरकार के कामकाज की तारीफ की तो कुछ ने कमियां गिनाई। पढ़िए किसने क्या कहा?



कार्यक्रम की शुरुआत में जूही जायसवाल ने कहा कि प्रयागराज पहले से बहुत बदल गया है। वहीं, महिला सुरक्षा को लेकर उन्होंने कहा कि इसमें भी काफी सुधार हुआ है। अपराधिक प्रवृति इंसान की खुद की होती है। प्रशासन हर जगह मुस्तैद है। दिव्या गुप्ता ने महंगाई का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा को कोरोना के कारण ग्लोबली सब चीजों के दाम बढ़ गए हैं। श्रुती अग्रवाल ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा पहले से बेहतर हो गई है। हम वर्तमान सरकार से खुश हैं। 




रितेंधरा मिश्रा (वकील) ने कहा कि वाकई महिलाओं की सुरक्षा पहले से बेहतर हो गई है लेकिन मैं उन महिलाओं की बात कर रही हूं, जो गांव की हैं। उनके साथ घटनाएं अभी भी हो रही हैं। सराकर ने 112 नंबर तो दे दिया। पुलिस आती है लेकिन कार्रवाई के नाम पर जीरो काम होता है। वे सब मामले हमारे पास ही आते हैं। उन्होंने आगे कहा कि इस सरकार में पुलिस का भौकाली रूप भी दिख रहा है। हां, पहले की तुलना में पुलिस सक्रिय हुई है लेकिन प्रोसीडिंग्स में देरी हो रही है। पुलिस को इन्वेस्टीगेशन सही से करना होगा। पुलिस पाठशाल लगाने की जरूरत है।

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022, महिलाओं से चुनावी चर्चा
प्रयागराज, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022, महिलाओं से चुनावी चर्चा - फोटो : अमर उजाला
मंजूषा सिंह ने कहा कि पहले से तो स्थिति सुधरी है लेकिन और सुधार की आवश्यकता है। इस सरकार में माफिया टाइप के लोग पर नकेल कसा गया है। वहीं विकास के मुद्दे पर मंजूषा ने कहा कि यह तो हो ही रहा है। ऐसी सत्ता, ऐसा ही प्रशासन, मोदी और योगी के रूप में ऐसे महापुरुष हों तो विकास होता ही रहेगा। जूही श्रीवास्तव ने कहा कि थाने पर अधिकतर ऐसा होता है कि महिलाएं बैठी रहती हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं होती। पुलिस को महिलाओं के मामले में ज्यादा संवेदनशील होने की जरूरत है। जब घटना हो जाती है उसके कई देर बाद पुलिस वहां पहुंचती है। कभी कभी तो पीड़िता की शिकायत भी दर्ज नहीं की जाती। 

मंजू गुप्ता ने लड़कियों के बाहर निकलने और उनके शिक्षा के मुद्दे पर कहा कि मौजूदा समय में बच्चियों को परिवार का पूरा सपोर्ट मिलता है। मैं एक बात कहना चाहूंगी कि कहा जाता है कि महिलाएं, पुरुषों के बराबर हैं पर उन्हें उस हिसाब से देखा नहीं जाता है। आजकल लड़कियां तो हर क्षेत्र में आगे हैं। रही सुरक्षा की बात तो लड़कियां इस समय सुरक्षित महसूस करती हैं। बाकी कोई घटना अगर घट जाती है तो उसका क्या कर सकते? आप ये नहीं कह सकते हैं किस पुरुष के मन में क्या चल रहा है? घटना जब घट जाती है तब पता चलता है कि वहां पर कुछ हुआ है। प्रशासन तो हर जगह तो नहीं पहुंच सकती है पर उसकी कोशिश पूरी रहती है। पुलिस की गाड़ी आजकल हर जगह खड़ी रहती है।

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022, महिलाओं से चुनावी चर्चा
प्रयागराज, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022, महिलाओं से चुनावी चर्चा - फोटो : अमर उजाला
संध्या तिवारी ने कहा कि यहां हम जेवर नहीं पहन पाती हूं। सुरक्षा है पर उतना नहीं है। इसमें और सुधार करना चाहिए। पूनम चौरसिया ने भी इस पर हामी भरी। उन्होंने कहा कि यह तो हकीकत है कि जेवर पहनने में बड़ी दिकक्त होती है। इस दौरान उन्होंने कहा कि मंदिर दर्शन करने गई थी चेन गायब हो गया। जयमाला जायसवाल ने कहा कि प्रयागराज पहले से काफी बदल गया है। सरकार कई योजनाएं ला रही हैं लेकिन जिनको चाहिए उन तक पहुंच ही नहीं रही है, पार्टियों तक ही रहती है। गरीब वहीं के वहीं हैं। वहीं, इस पर एक महिला ने कहा कि सरकारी तंत्र में सब गड़बड़ चल रहा है।

रचना अग्रवाल ने कहा कि जो प्रधान हैं, जो सभासद हैं वो अपने जगह की बिल्कुल भी केयर नहीं कर रहे हैं। महिलाओं की वे लोग नहीं सुनते हैं। न प्रधान सुनते हैं और न ही सभासद। मैं ये नहीं कहूंगी कि वे अपना पेट भर रहे हैं या जो भी कर रहें हों लेकिन महिलाओं की नहीं सुनते हैं। इस पर एक महिला ने कहा कि अगर सरकारी अधिकारियों को निलंबित किया जा सकता है तो प्रधान और सभासद पर इस तरह की कार्रवाई करनी चाहिए। डॉ. शांति चौधरी ने कहा कि वर्तमान सरकार में महिलाएं निश्चित रूप से सुरक्षित हुई हैं। महिलाओं का खुद का आत्मविश्वास बढ़ा है। ममता मिश्रा ने बेरोजगारी की समस्या का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण इतनें दिनों से जो सबकुछ ठप था। मोदी जी कोई जादू तो नहीं कर देंगे। सबकुछ धीरे धीरे होगा। प्रिया नारायण ने कहा कि वर्तमान सरकार बहुत अच्छा काम रही है। लोगों को जागरूक और अपनी सोच बदलने की जरूरत है। महंगाई पर किसी भी सरकार का कोई नियंत्रण नहीं हो सकता है।  
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00