बुखार से कराह उठा जिला, 36 घंटे में छह मौत

Unnao Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
उन्नाव। उल्टी-दस्त के बाद अब बुखार ने समूचे जिले में कहर बरपा रखा है। बुखार की चपेट में आकर मरने वालों का सिलसिला थम नहीं रहा है। शनिवार को जिला अस्पताल में इलाज के दौरान तीन बुखार रोगियों की मौत हो गई। इसके पहले शुक्रवार को तीन लोगों की जान जा चुकी है। इस तरह बीते 36 घंटे के दौरान छह बुखार रोगी काल के गाल में समा चुके हैं। जिला अस्पताल में रोगियों की संख्या रोजाना बढ़ रही है। हाल यह है कि अस्पताल के वार्ड संक्रामक रोगियों से फुल हो चुके हैं। एक-एक बेड पर दो-दो मरीजों को लिटाकर इलाज किया जा रहा है। इसके अलावा शहर और ग्रामीण क्षेत्र में तमाम लोग बीमारी से जूझ रहे हैं। गांवों में तो कई जगह पूरा परिवार परिवार बुखार की चपेट में है।
इधर कई महीने से समूचा जिला संक्रामक रोगों से कराह रहा है। पहले उल्टी-दस्त की चपेट में आकर लोग परेशान रहे। अब बुखार ने कहर ढा दिया है। बुखार रोगियों की बढ़ती संख्या का अंदाज इससे लगाया जा सकता है कि जिला अस्पताल में पहले के मुकाबले रोगियों की भीड़ बढ़ी है, इनमें से बुखार रोगी ज्यादा है। अस्पताल का हर वार्ड संक्रामक रोगियों से भरा है। हालत यह है कि एक बेड पर दो-दो मरीजों को भर्ती करना पड़ रहा है। शनिवार की सुबह अस्पताल में भर्ती बुखार रोगी वृद्धा समेत तीन की मौत हो गई। भर्ती आधा दर्जन रोगियों की हालत काफी नाजुक बताई जा रही है।
बारा सगवर थाना क्षेत्र के गंगानगर निवासी राजकुमार की पुत्री आरती (7) तीन दिन से बुखार से पीड़ित थी। शुक्रवार की रात हालत ज्यादा बिगड़ने पर राजकुमार ने शनिवार को तड़के जिला अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान सुबह करीब आठ बजे उसकी मौत हो गई। सफीपुर तहसील क्षेत्र के उनवा गांव निवासी राजेंद्र कुमार का डेढ़ साल का पुत्र नितीश कई दिनों से बुखार से पीड़ित था। हालत बिगड़ने पर शुक्रवार को उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां शनिवार की सुबह उसने दम तोड़ दिया। तीन दिन से जिला अस्पताल में भर्ती माखी गांव निवासी यशोदा (65) की शनिवार को तड़के पांच बजे मौत हो गई, वह बुखार से पीड़ित थी। उधर, जिला अस्पताल में भर्ती ऊंचगांव सानी निवासी रामचंद्र (50), शहर के मोहल्ला कासिम नगर निवासी मो. जैद (7) पुत्र मो. शकील, बशीरतगंज निवासी गोकुल की पुत्री रंगोली (10), बारासगवर निवासी नन्हकू के पुत्र सनी (2) समेत आधा दर्जन से अधिक बुखार रोगियों की हालत नाजुक बनी है। मालूम हो कि गुरुवार की रात से शुक्रवार दोपहर तक अचलगंज के गांव इटौली निवासी अनंता देवी(75), फतेहपुर चौरासी निवासी केशव की 9 वर्षीय पुत्री शिवानी और सरइयां निवासी रामभरोसे(60) की मौत हो चुकी है। इस तरह बीते 36 घंटे में बुखार से छह लोग काल के गाल में समा चुके हैं। उधर, सीएमओ डॉ. डीपी मिश्रा का कहना है कि मौसम के बदलाव से लोग बीमार हो रहे हैं। मौत हो जाने पर लोग संक्रामक रोग बता देते हैं।
जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. आरडी विमल भी मानते हैं कि डायरिया का प्रकोप थमने के बाद अब बुखार से पीड़ित रोगियों की संख्या बढ़ी है। दवाओं आदि के बारे में उनका कहना है कि जिला अस्पताल में न तो महंगी दवाएं हैं और न ही इंजेक्शन, जिस कारण मरीजों को सही उपचार नहीं मिल पाता। अभी तक जिला अस्पताल में दवाओं की सप्लाई नहीं हो सकी है। मेडिकल स्टोरों से दवा लेकर काम चलाया जा रहा है। 21 लाख की दवा सप्लाई के लिए आर्डर भी किया जा चुका है। लेकिन अभी तक कोई जवाब शासन से नहीं मिल पाया है।

Spotlight

Most Read

Pratapgarh

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper