बीडीओ के पाले में खड़े हो गए प्रधान

Unnao Updated Sun, 26 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
अचलगंज (उन्नाव)। सिकंदरपुर कर्ण ब्लाक के प्रधान, बीडीओ के समर्थन में खड़े हो गए हैं। शनिवार को ब्लाक मुख्यालय में प्रधानों की बैठक में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर भी शामिल हुए। सुरेंद्र सिंह टिकौली, रबींद्र यादव, रामबहादुर सिंह, दिनेश सिंह प्रधान प्रतिनिधि, जितेंद्र दीक्षित, रामकुमार, कमल सिंह, संजय पांडेय आदि प्रधानों ने कहा कि खंड विकास अधिकारी को कर्मठ व तेज तर्रार हैं, सारा दोष ग्राम विकास अधिकारियों का है।
विधायक ने कहा कि जनप्रतिनिधियों का सम्मान करना हमारा दायित्व है। निजाम बदला है व्यवस्था भी बदलेगी। आपस में तालमेल मिलाकर विकास कार्यों में सहयोग न करने वाले अधिकारी कर्मचारी बख्शे नहीं जाएंगे। वह नौकरी करने आए हैं, नौकरी करें। महीने में एक बार प्रधानों व गणमान्य लोगों के साथ बैठक कर क्षेत्र की समस्याओं पर चर्चा करेंगे। बैठक में प्रधान संघ के अध्यक्ष सिद्धार्थ तिवारी, उदयराय यादव, रामनरेश तिवारी, लाल सिंह नौबस्ता, डा. विंदेस्वरूप यादव, राकेश लखनपुर, कृपाशंकर यादव, विनोद गुप्ता, रजनीश पासवान, धर्मराज, प्रदीप वर्मा, संजू पांडेय, आरबी निषाद, लक्ष्मी नारायण निषाद, निर्भय सिंह, मो. शमी खां, गुडडू सिंह वसैना, राजेश वर्मा किसुनपुर, मोहनलाल, दिलीप यादव करौंदी, राघवेंद्र अवस्थी सपा नेता, सुरेंद्र सिंह नौबस्ता, अजय द्विवेदी आदि मौजूद रहे।



इनसेट

चिंगारी को हवा दे अलग हो गए प्रधान
उन्नाव। सिकंदरपुर कर्ण ब्लाक बीडीओ के खिलाफ चार दिन से चल रहे आंदोलन की चिंगारी को ग्राम प्रधानों ने हवा दी थी। कर्मचारियों में तो काफी दिनों से रोष था लेकिन वह साहस नहीं जुटा पा रहे थे। कुछ प्रधानों ने ग्राम विकास अधिकारियों को उकसाया। अंदर ही अंदर ये प्रधान बीडीओ के खिलाफ माहौल बनाते रहे। इनमें से कुछ पिछले रविवार को लखनऊ में एक नेता से मिले थे। इन प्रधानों ने लोकसभा चुनाव की दुहाई देकर बीडीओ को हटवाने की गुहार लगाई थी। नेता से आश्वासन का आशीर्वाद लेकर लौटे इन प्रधानों ने ग्राम विकास अधिकारियों को इस कदर उकसा दिया कि वह बीडीओ के खिलाफ बगावत पर आमादा हो गए। बगावत की चिंगारी इस कदर भड़की की आंदोलन की आग ब्लाक मुख्यालय से जिला मुख्यालय तक पहुंच गई। सत्ता के दबाव में जिले के अधिकारी बीडीओ के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। आंदोलनरत कर्मचारियों से दो दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। अफसरोें के अड़ियल रुख से अन्य कर्मचारी संगठनों में भी रोष पनप गया है। शनिवार को कुछ कर्मचारी संगठनों के नेता धरने में शामिल हो गए। सोमवार को आंदोलन को राज्य कर्मचारी संघ, शिक्षक संघ सहित कई अन्य कर्मचारी संगठनों के समर्थन के संकेत मिले हैं। अगर ऐसा हुआ तो जिले में कामकाज लगभग ठप हो जाएगा।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

केजरीवाल के धरने पर हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी, कहा-आप इस तरह किसी के घर में घुसकर धरना नहीं दे सकते

पिछले आठ दिनों से दिल्ली के उपराज्यपाल के वेटिंग रूम में चल रहे मुख्यमंत्री और उनके मंत्रियों के धरने पर दिल्ली हाईकोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि आप इस तरह से किसी के घर या दफ्तर में घुसकर धरना या हड़ताल नहीं कर सकते।

18 जून 2018

Related Videos

सीएम योगी के उन्नाव दौरे से पहले कांग्रेस नेता को क्यों किया गया नजरबंद

गुरुवार को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ उन्नाव पहुंचे लेकिन उनके पहुंचने से पहले उन्नाव पुलिस ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें नजरबंद कर दिया। इस रिपोर्ट मे देखिए क्या है इस कार्रवाई की वजह।

7 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen