विज्ञापन

राशन चाहिए तो आधार या वोटर कार्ड लेकर जाएं

Unnao Updated Sat, 26 Jan 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
उन्नाव। अब राशन लेने के लिए कार्डधारकों को आधार या वोटरकार्ड दिखाना होगा। कोटेदार पहचानपत्रों पर अंकित नंबरों को रजिस्टर में दर्ज करेगा। इसके बाद ही राशन मिल सकेगा। कोटेदारों ने कार्डधारकों से पहचान पत्र मांगना भी शुरू कर दिया है। बिना पहचान पत्र के अब राशन और मिट्टी का तेल नहीं मिलेगा। मृतकों व बाहर रहने वालों का भी राशन उठान होने की शिकायतों पर शासन ने नई व्यवस्था लागू की है।
विज्ञापन

जिले में राशन कार्ड धारकों की संख्या करीब साढ़े 8 लाख है। इसमें अंत्योदय 1,14000, बीपीएल 1,86000 और एपीएल कार्डधारक करीब पांच लाख हैं। जनपद में इन कार्ड धारकों को 1152 नगरीय व 77 ग्रामीण सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों से राशन व केरोसिन दिया जाता है। बताया जाता है कि प्रति माह जिलाधिकारी व जिला पूर्ति कार्यालय में राशन वितरण में गड़बड़ी की सैकड़ों शिकायतें पहुंचती हैं। जांच में कई कोटेदारों द्वारा मृतकों व गांव/नगर में न रहने वालों के नाम से भी राशन उठाने और उनकी कालाबाजारी का खुलासा हो चुका है। इन मामलों में शासन ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। शासन की ओर से जो नई योजना तैयार की गई है उसके तहत अब बिना पहचान पत्र देखे कोटेदार राशन नहीं देगा। कोटेदारों को पहचान पत्र जिसमें वोटर या आधार कार्ड मान्य होगा इसका नंबर रजिस्टर में अंकित करना होगा। राशन लेने के लिए कार्डधारक का वोटर या आधार कार्ड दिखाना होगा। अंकित नंबर के आधार पर बीच-बीच में कार्डधारकों की जांच की जाएगी। पूर्ति निरीक्षक शकुंतला राय ने बताया कि फर्जी राशनकार्डों के जरिए होने वाली राशन की कालाबाजारी को रोकने के लिए शासन नई व्यवस्था बनाई है।
वोटर कार्ड के लिए बीएलओ के लगाने लगे चक्कर
नवाबगंज (उन्नाव)। इस नए नियम से उन लोगों के लिए समस्या हो गई है जिनके पास न तो आधार कार्ड हैं और न ही वोटरकार्ड। ऐसे लोग अब वोटर कार्ड के लिए बीएलओ के चक्कर लगा रहे हैं। शासन के नये दिशा निर्देश पर लागू की गई इस व्यवस्था पर कोटेदारों को सख्ती से अमल करने को कहा गया है। पहचान पत्र न होने की दशा में इसके चलते राशनकार्ड धारक कोटे की दुकान से राशन और मिट्टी का तेल नहीं ले सकेंगे। इस बारे में पूर्ति निरीक्षक का कहना है कि फर्जी तरीके से बने बीपीएल, अंत्योदय कार्ड धारकों को रोकना है। स्थिति यह है कि गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले एक परिवार के कई-कई कार्ड बनाए गए हैं। अधिशासी अधिकारी उमेश मिश्रा का कहना है कि बिना पहचान पत्र व आधारकार्ड के बिना कार्डधारक राशन और मिट्टी का तेल नहीं पा सकेंगे। कोटेदार घर-घर जाकर पहचान पत्र की छाया प्रति मांग रहे हैं। जिसके पास है पहचान पत्र या आधार कार्ड है, वह तो छाया प्रति दे रहे हैं और जिनके पास नहीं है वह बीएलओ के चक्कर लगा रहे हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us