अमेठी की पहचान लौटने पर मना जश्न

Sultanpur Updated Tue, 24 Jul 2012 12:00 PM IST
गौरीगंज। सूबे की सपा सरकार ने पूर्ववर्ती माया सरकार के एक और फैसले को पलट दिया है। सोमवार को कैबिनेट की बैठक में सीएसएम नगर का नाम बदलकर अमेठी कर दिया गया। कैबिनेट के फैसले से पूरे जिले में उल्लास का माहौल है। जिले के लोगों ने सरकार के इस फैसले की मुक्त कंठ से सराहना की है।
पुन्नपुर कांड में कांग्रेसियों द्वारा खेले गए दलित कार्ड की धार को कुंद करने के लिए 21 मई 2003 को अमेठी आईं सूबे की तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने लोकसभा क्षेत्र अमेठी को छत्रपति शाहू जी महाराज नगर के नाम से जिला बनाए जाने की घोषणा थी। घोषणा पर तत्काल अमल भी हुआ। रायबरेली से सलोन व तिलोई तथा सुल्तानपुर से अमेठी, गौरीगंज और मुसाफिरखाना तहसीलों को काटकर बनाए गए जिले में आनन-फानन डीएम और एसपी की पोस्टिंग भी की गई थी। हालांकि जिले का कामकाज ढर्रे पर आ पाता इसके पहले सत्ता में आई समाजवादी पार्टी ने 13 नवंबर 2003 को जिला समाप्त करने की घोषणा कर दी। इससे नाराज लोगों ने जिला बचाओ संघर्ष समिति गठित कर जिला बहाल करने की मांग शुरू की। विरोध के बावजूद सरकार नहीं झुकी तो संघर्ष समिति के मौजूदा अध्यक्ष एडवोकेट उमाश्ंाकर पांडेय ने 25 दिसंबर 2003 को उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ में जिला बहाल करने के लिए एक याचिका दायर की। याचिका पर तकरीबन सवा छह साल तक चली सुनवाई के बाद न्यायालय ने 20 मार्च 2010 को दिए गए अहम फैसले में 90 दिन के भीतर जिला बहाल करने का आदेश दिया। इसी फैसले को आधार बनाकर सूबे की पूर्ववर्ती बसपा सरकार ने एक बार फिर जिले का पुनर्गठन तो किया, लेकिन लोगों के भारी विरोध के बावजूद जिले का पुराना नाम बरकरार रखा। लोगों की यह मांग बसपा सरकार जाने के बाद पूर्ण बहुमत से सत्ता में आई सपा से भी चलती रही। सपा के जिले से निर्वाचत तीन विधायकों के साथ डीएम विद्याभूषण ने भी जिले का नाम बड़ा होने से लोगों के समक्ष आने वाली परेशानियों का हवाला देते हुए सरकार से जनपद का नाम बदलकर छोटा करने की मांग की थी। सोमवार को कैबिनेट ने इन मांगों को गंभीरता से लेते हुए सीएसएम नगर जिले का नाम बदलकर अमेठी किया तो लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई। लोगों ने मिठाई बांद गोले दागकर खुशी जताई।

Spotlight

Related Videos

देखिए, बीजेपी सांसद वरुण गांधी के बगावती तेवर!

बीजेपी सांसद वरुण गांधी केंद्र सरकार की नीतियों पर जमकर बरसे।

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper